जहानाबाद में एंबुलेंस नहीं मिलने पर गई मासूम की जान, बच्चे को गेद में लेकर भटकती रही मां

बच्ची को बुखार था और पास के गांव से उसे जहानाबाद सदर अस्पताल लाया गया था और उसे पीएमसीएच रेफर किया गया था. लेकिन एंबुलेंस नहीं मिलने के कारण परिजन उसे लेकर पटना नहीं आ पाए और मासूम की बच्ची के गोद में मौत हो गई.

जहानाबाद में एंबुलेंस नहीं मिलने पर गई मासूम की जान, बच्चे को गेद में लेकर भटकती रही मां
जहानाबाद में एंबुलेंस न मिलने की वजह से तीन साल की मासूम की आज जान चली गई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

जहानाबाद: बिहार के जहानाबाद में एंबुलेंस नही मिलने की वजह से तीन साल की मासूम बच्ची की जान चली गई. यह घटना जिले की सदर अस्पताल की है. मिली जानकारी के अनुसार बच्ची को बुखार था और पास के गांव से उसे जहानाबाद सदर अस्पताल लाया गया था जहां डॉक्टरों ने उसे पीएमसीएच रेफर किया गया था. 

लेकिन एंबुलेंस नहीं मिलने के कारण परिजन उसे लेकर पटना नहीं आ पाए और मासूम की बच्ची की मां की गोद में मौत हो गई.  वहीं, जहानाबाद सदर अस्पताल में सिविल सर्जन विजय कुमार सिन्हा ने जांच कर कार्रवाई करने की बात कही है. 

उन्होंने कहा कि सभी बिंदुओं पर जांच की जा रही है कि आखिर एंबुलेंस किस कारण नहीं मिला. एंबुलेंस यहां एक संस्था द्वारा चलाई जा रही है। अगर संस्था दोषी होगी तो उसपर कार्रवाई की जाएगी,अगर एंबुलेंस चालक की लापरवाही होगी तो वैसे कर्मी को हटाया जाएगा.

वहीं, इस घटना पर आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा है कि बिहार में यह घटना आम हो गई है. नीतीश कुमार के सुशासन पर सवाल उठ रहे हैं. नीतीश कुमार ने अभी तक कोई ठोस व्यवस्था नहीं की है फिर चाहे मामला स्वास्थ्य विभाग का हो का पीडीएस सिस्टम का. आपको बता दें कि बिहार के कई जिलों में जेडीयू सासंद चंदेश्वर प्रसाद चंद्रवंशी की संस्था द्वारा एम्बुलेंस उपलब्ध कराई जाती है.