close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भीषण गर्मी के बाद अब बिहार में बारिश का कहर, मोतिहारी में धारा 144 सहित कई जिलों में अलर्ट जारी

मौसम विभाग ने अररिया, मोतिहारी, बेतिया, सुपौल, सीतामढ़ी, मधुबनी, भागलपुर, खगड़िया, पूर्णिया और मधेपुरा में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. 

भीषण गर्मी के बाद अब बिहार में बारिश का कहर, मोतिहारी में धारा 144 सहित कई जिलों में अलर्ट जारी
बिहार में अगले 24 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. (फाइल फोटो)
Play

पटना: बिहारवासियों द्वारा प्रचंड गर्मी का कहर झेलने के बाद अब बाढ़ की मार भी झेलनी पड़ सकती है. बिहार में पिछले कुछ दिनों से लगातार बारिश हो रही है. भारी बारिश के कारण पहले ही कोसी और गंडक जैसी नदियां उफान पर हैं और अररिया, सुपौल, पूर्णिया, मोतिहारी और बगहा के कई प्रखंडों में बाढ़ जैसे हालात उत्पन्न हो गए हैं.

मौसम विभाग ने अररिया, मोतिहारी, बेतिया, सुपौल, सीतामढ़ी, मधुबनी, भागलपुर, खगड़िया, पूर्णिया और मधेपुरा में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. भारी बारिश की संभावना को देखते हुए पूर्वी चंपारण और मोतिहारी में धारा 144 लगाई गई है. 

सुपौल: कुसहा त्रासदी को याद कर रहे लोग
जैसे कोसी का जलस्तर बढता है लोगों के जेहन में कुसहा त्रासदी की याद ताजा होने लगती है. जुलाई महीने में ही कोसी का जलस्तर एक बार फिर से उफान पर है. गुरुवार की सुबह से 8 बजे से कोसी के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है.

अररिया- चार प्रखंड बाढ़ प्रभावित
लगातार बारिश से नेपाल से निकलने वाली कई नदियों में उफान है. इससे अररिया जिले के 4 प्रखंड बाढ़ से प्रभावित हो गए हैं. पलासी, फारबिसगंज में बाढ़ की आशंका है. वहीं जोकीहाट प्रखंड में बकरा नदी में उफान पर है. किशनगंज रुट के बंद होने का खतरा है.

पूर्णिया- बायसी में कटाव शुरू
पूर्णिया के बायसी अनुमंडल में महानंदा और कनकई नदी में जलस्तर में तेजी से वृद्धि हो रही है. हालांकि दोनों नदिया अभी खतरे के निशान से नीचे बह रही हैं, लेकिन इस इलाके के लोगों के लिये चिन्ता बढ़ गयी है. वहीं बायसी अनुमंडल में कई जगहों पर कटाव भी शुरू हो गया है.

सीतामढ़ी- बाढ़ का कहर
बागमती और अधवारा समूह की नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. सीतामढ़ी के कई प्रखंडों  सड़क संपर्क टूट गया है और सीतामढ़ी-भिट्ठामोड़ एनएच-104 पर बाढ़ का पानी बह रहा है. वहीं शिवहर में नदी के जल स्तर मे वृद्धि से शिवहर से मोतिहारी सड़क का वेलबा के निकट सड़क सम्पर्क भंग हो गया है. स्कूलों को भी अगले कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया गया है. 

बक्सर- गंगा के जलस्तर में लगातार वृद्धि
भारी बारिश के कारण गंगा के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है. दूसरी ओर बारिश के पानी में दर्जनों गांव डूब गए हैं. खेतों में लगी सैकडों एकड़ की फसल पानी मे डूब गई है.

बगहा- कई इलाकों में बाढ़ का खतरा
नेपाल के तराई क्षेत्रों में लगातार बारिश के बाद गंडक नदी के जलस्तर में भारी वृद्धि हुई है. बाल्मीकि नगर गंडक बराज से शनिवाह सुबह 8 बजे तक 1,79,600 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज हुआ है. पिछले 24 घंटे से लगातार गंडक नदी का जलस्तर में वृद्धि जारी है ऐसे में उत्तर बिहार में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है. अगर ऐसे ही बारिश होती रही तो बगहा, बेतिया, गोपालगंज सहित उतर बिहार के कई इलाके बाढ़ के चपेट में आ सकते हैं.

गोपालगंज- तटबंधों में रेनकट
गोपालगंज में कई दिनों से हो रही लगातार बारिश से तटबंधों में कई जगह रेनकट होने लगा है. इस रेन कट से तटबंधों में जगह- जगह दरारें आ गयी हैं. तटबंधो में लगातार दरार होने से उनकी मजबूती कम हुई है. इसके साथ ही अगर गंडक में पानी का दबाव बढ़ता है तो सारण मुख्य बांध को बचाना मुश्किल हो जाएगा.

गोपालगंज में प्रधानमंत्री सडक योजना के तहत सडक पर बना पुलिया एक भी बरसात झेल नहीं पाया और मानसून की पहली बारिश में ही पूरा पुलिया पानी की तेज धारा में बह गया. इस पुलिया के पानी में बहने से बरौली प्रखंड के बेलसंड, माधोपुर सहित करीब एक दर्जन गांवो का जिला मुख्यालय से सम्पर्क टूट गया है.