झारखंड: हिंदपीढ़ी में प्रशासन सख्त, CCTV-ड्रोन कैमरे से कर रहा क्षेत्र की निगरानी

झारखंड में कोरोना संक्रमण को लेकर हिंदपीढ़ी हॉटस्पॉट (Hotspot) बन चुका है. कोरोना संक्रमण मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. बावजूद इसके हिंदपीढ़ी इलाके में लॉकडाउन (Lockdown) के उल्लंघन की खबरें सुर्खियां बन रही हैं. लेकिन अब हिंदपीढ़ी में लॉकडाउन का उल्लंघन ना हो, इसके लिए प्रशासन सख्त हो गया है.

झारखंड: हिंदपीढ़ी में प्रशासन सख्त, CCTV-ड्रोन कैमरे से कर रहा क्षेत्र की निगरानी
कोरोना संक्रमण मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

रांची: झारखंड में कोरोना संक्रमण को लेकर हिंदपीढ़ी हॉटस्पॉट (Hotspot) बन चुका है. कोरोना संक्रमण मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. बावजूद इसके हिंदपीढ़ी इलाके में लॉकडाउन (Lockdown) के उल्लंघन की खबरें सुर्खियां बन रही हैं. लेकिन अब हिंदपीढ़ी में लॉकडाउन का उल्लंघन ना हो, इसके लिए प्रशासन सख्त हो गया है.

बता दें कि, लॉकडाउन और सील के बावजूद हिंदपीढ़ी इलाके में नियम का उल्लंघन हो रहा है. वहीं, बीते दिनों हाईकोर्ट द्वारा मामले में संज्ञान लिए जाने के बाद, अब हिंदपीढ़ी में जिला प्रशासन सख्त हो गया है. इसके तहत, हिंदपीढ़ी के पूरे इलाके पर अब कड़ी नजर रखी जा रही है. साथ ही पूरे इलाके को 37 जगहों से सील कर दिया गया है और इन सीलिंग पॉइंट से कोई बाहर न निकल सके, इसके लिए हर सीलिंग पॉइंट्स पर सीसीटीवी (CCTV) कैमरे लगाए गए हैं.

वहीं, मामले पर लगातार हो रहे उल्लंघन पर, प्रशासन भी सख्ती से निपटने की कवायद में जुटी है. अब तक लॉकडाउन उल्लंघन में 200 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जा चुकी. इधर, प्रशासन द्वारा तकनीक के माध्यम से हिंदपीढ़ी वासियों पर पैनी नजर रखी जा रही है.

अगर कोई सील के बावजूद इलाके से बाहर आता है तो, ड्रोन कैमरा के जरिए उनके चेहरे की पहचान होगी. साथ ही, लॉकडाउन का उल्लंघन करते अगर लोग पाए गए तो, उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट दर्ज किया जाएग. वहीं, प्रशासन की सख्ती के बावजूद सील के दौरान लोगों को परेशानी ना हो, इसके लिए भी सरकार हर संभव कोशिश कर रही है.

रांची उपायुक्त ने कहा कि, मुख्यमंत्री खाद्यान्न योजना के तहत 4000 परिवारों को इमरजेंसी रीलीफ पैकेट दिए जा चुके हैं. साथ ही, आने वाले दिनों में इंद्रपुरी इलाके के सभी परिवारों के बीच यह पैकेट पहुंचा दिए जाएंगे. वहीं, इलाका सील है और लोगों को घर से बाहर आने की मनाही है, इसीलिए होम डिलीवरी की भी व्यवस्था प्रशासन की तरफ से की गई है और अब तक 9000 लोगों को होम डिलीवरी के तहत सुविधाएं देने की कोशिश जारी है.

इधर, बीते दिनों गर्भवती महिला के साथ हुई वारदात से सबक लेते हुए रांची उपायुक्त ने कहा कि, इलाके के सभी थर्ड स्टेज में चल रही गर्भवती महिलाओं की सूची तैयार कर ली गई है. उनको यह बताया गया है कि, किस नंबर पर सूचित करना है. वहीं, रिम्स (RIMS) इलाके में मोबाइल ओपीडी (OPD) की भी व्यवस्था की गई है. साथ ही, चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मी भी 24 घंटे उपलब्ध हैं.