close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चुनाव हारने के बाद मीसा ने रद्द की अनुसंशित फंड, तो आरजेडी-कांग्रेस ने मांगी सफाई

सांसद निधि योजनाओं की अनुशंसा को रद्द करके पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद की बड़ी बेटी मीसा भारती अपने ही दल राजद में घिर गयी हैं.

चुनाव हारने के बाद मीसा ने रद्द की अनुसंशित फंड, तो आरजेडी-कांग्रेस ने मांगी सफाई
मीसा भारती ने अनुसंशित फंड को रद्द करा दिया है. (फाइल फोटो)

पटनाः सांसद निधि योजनाओं की अनुशंसा को रद्द करके पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद की बड़ी बेटी मीसा भारती अपने ही दल राजद में घिर गयी हैं. मनेर से विधायक और पार्टी प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने अनुशंसा को रद्द करने पर सवाल किये हैं, तो सहयोगी कांग्रेस के नेता भी राज्यसभा सांसद को कठघरे में खड़ा कर रहे हैं और सफाई मांग रहे हैं. सत्तधारी भाजपा इसे सुचिता से जोड़ कर देख रही है. 

पटनाः राज्यसभा सांसद मीसा भारती के 15 करोड़ की अनुशंसा रद्द करने का मामला लगातार तूल पकड़ रहा है. अब उनकी पार्टी राजद में भी सवाल खड़े हो गये हैं. पार्टी विधायक और प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने साफ तौर पर कहा कि किन परिस्थितियों में अनुशंसा रद्द की गयी है. ये तो मीसा भारती बता सकती हैं, लेकिन कोई जन प्रतिनिधि काफी-सोच विचार के बाद ही अनुशंसा करता है...ऐसे में इस तरह का कदम उठाना उचित नहीं लगता है.

भाई वीरेंद्र की तरह बिहार कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी भी अनुशंसा रद्द किये जाने पर मीसा भारती को नसीहत दे रहे हैं. कह रहे हैं कि ये सीधे तौर पर जनता की जरूरतों से जुड़ा हुआ मुद्दा है, जब कोई स्थिति बनी होगी, तभी अनुशंसा की गयी होगी. फिर ऐसा क्या हुआ, जिससे उन्हें रद्द कर दिया गया. 

जब महागठबंधन में मीसा भारती के फैसले पर सवाल उठ रहे हैं, तो सत्तापक्ष की ओर से सवाल उठाये जाने लाजमी है. बिहार सरकार में मंत्री राणा रणधीर का कहना है कि ये सुचिता से जुड़ा मामला है. 

मीसा भारती ने जिस तरह से योजनाओं की अनुशंसा और फिर उन्हें रद्द करने की सिफारिश की है, इसको लेकर राजनीतिक हलकों ही नहीं, प्रशासनिक हलकों में भी हलचल है. अधिकारी समझ में नहीं पा रहे हैं कि आखिर राज्यसभा सांसद ने ऐसा फैसला क्यों लिया. मीसा भारती की ओर से इस मुद्दे पर जो सफाई दी गयी है. वो भी लोगों को गले नहीं उतर रही है, क्योंकि योजनाओं को रद्द करते हुये उन्होंने अनियमितता का मुद्दा नहीं उठाया है. उसमें सीधे तौर पर कारण को अपरिहार्य बता दिया है.