शाहीनबाग-सब्जीबाग के बाद सासाराम के भाईखान बाग में CAA के खिलाफ प्रदर्शन पर उतरे लोग

पटना के सब्जी बाग की तरह सासाराम के 'भाई खान के बाग' में भी एनआरसी और सीएए के खिलाफ लोगों ने गोलबंद होकर प्रदर्शन करना शुरू किया है. ये धरना तब तक चालू रहेगा, जब तक सरकार सीएए को वापस नहीं ले लेती. 

शाहीनबाग-सब्जीबाग के बाद सासाराम के भाईखान बाग में CAA के खिलाफ प्रदर्शन पर उतरे लोग
सासाराम के भाई खान बाग में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करते लोग.

गया: देशभर में सीएए (CAA) और एनआरसी (NRC) को लेकर घमासान मचा हुआ है. हर दूसरे राज्य में प्रदर्शन और धरना लगातार जारी है. इसी कड़ी में दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर सासाराम में भी नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ धरना शुरू किया गया. अल्पसंख्यक समुदाय इस धरने का नेतृत्व कर रही है. 

साथ ही ये भी बता दें कि इस धरने की शुरुआत महिलाओं ने की है. महिलाओं ने सख्त तेवर अख्तियार करते हुए अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया है. सासाराम के भाई खां के बाग में इस अनिश्चितकालीन धरने की शुरुआत की गई. इसमें युवाओं के अलावा महिलाओं की संख्या ज्यादा है. महिलाओं ने हाथों में तिरंगा थामा हुआ है, जिसमें सीएए और एनआरसी के विरोध में नारे लिखे हुए हैं.

इस धरना में माले, राजद और कांग्रेस के भी कार्यकर्ता शामिल हैं. धरना दे रहे लोगों ने बताया कि दिल्ली के शाहीन बाग, पटना के सब्जी बाग की तरह सासाराम के 'भाई खान के बाग' में भी एनआरसी और सीएए के खिलाफ लोगों ने गोलबंद होकर प्रदर्शन करना शुरू किया है. ये धरना तब तक चालू रहेगा, जब तक सरकार सीएए को वापस नहीं ले लेती. 

माले के जिला सचिव अशोक बैठा ने बताया कि सरकार ने जो सीएए कानून लाया है, उसके खिलाफ जनआक्रोश बढ़ता ही जा रहा है. भाई खां के बाग में इसी विरोध को लेकर प्रदर्शन और धरना किया जा रहा है.
Anupama Jha, News Desk