RJD नेताओं के बयान से नाराज कांग्रेस ने गठबंधन तोड़ने की दी चेतावनी, BJP ने ली चुटकी

पार्टी के प्रवक्ता हरखू झा ने आरजेडी को गठबंधन तोड़ने की चेतावनी दे दी है. हरखू झा ने कहा है कि हमलोगों पर सवाल उठाने से पहले आरजेडी को खुद के गिरेबां में झांकना चाहिए. 

RJD नेताओं के बयान से नाराज कांग्रेस ने गठबंधन तोड़ने की दी चेतावनी, BJP ने ली चुटकी
RJD नेताओं के बयान से नाराज कांग्रेस ने गठबंधन तोड़ने की दी चेतावनी, BJP ने ली चुटकी.

पटना: आरजेडी के नेता लगातार कांग्रेस पर हमला बोल रहे हैं. कोई राहुल गांधी के नेतृत्व क्षमता पर सवाल खड़े कर रहा है तो कोई बिहार में महागठबंधन की सरकार नहीं बन पाने की वजह कांग्रेस को बता रहा है. ऐसे बयानों से नाराज कांग्रेस की सब्र का बांध अब टूटने लगा है.

पार्टी के प्रवक्ता हरखू झा ने आरजेडी को चेतावनी दी है कि अगर लालू-तेजस्वी ने अपने नेताओं के बयान पर रोक नहीं लगाए तो गठबंधन धर्म संकट में पड़ सकता है.

आरजेडी नेताओं के जुबानी हमलों से कांग्रेस लगातार आहत हो रही है. पहले शिवानंद तिवारी ने पार्टी के सबसे बड़े नेता राहुल गांधी के ही नेतृत्व पर सवाल खड़े कर दिये. वहीं अब पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के बेटे विधायक सुधाकर सिंह ने बिहार में महागठबंधन की सरकार नहीं बन पाने के लिए कांग्रेस को जिम्मेवार ठहरा दिया. इतना ही नहीं आरजेडी के कई पूर्व विधायकों ने तो कांग्रेस के वजूद पर ही सवाल खड़े कर दिये.

आरजेडी के जुबानी हमलों से घायल हो रही कांग्रेस ने आखिरकार अपनी चुप्पी तोड़ दी है. पार्टी के प्रवक्ता हरखू झा ने आरजेडी को गठबंधन तोड़ने की चेतावनी दे दी है. हरखू झा ने कहा है कि हमलोगों पर सवाल उठाने से पहले आरजेडी को खुद के गिरेबां में झांकना चाहिए.

महागठबंधन छोड़ मांझी क्यों चले गये, उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) को क्यों महागठबंधन छोड़ना पड़ा, मुकेश सहनी भरे प्रेस कान्फ्रेंस में किसपर सवाल खड़े कर महागठबंधन से चले गये. 

उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) और लालू प्रसाद यादव (Lalu Yadav) को अपने नेताओं के बयान पर अंकुश लगाना चाहिए. राहुल गांधी हमारे सर्वमान्य नेता हैं. उनके संदर्भ में हम किसी की टिप्पणी बर्दाश्त नहीं कर सकते. अगर ऐसे ही हालात रहे तो गठबंधऩ धर्म संकट में पड़ जाएगा.

इधर, आरजेडी ने अपने नेताओं के बयान से पल्ला झाड़ लिया है. पार्टी के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा है कि आरजेडी और कांग्रेस गठबंधन में है. दोनों दलों का पुराना गठबंधन है. कांग्रेस को लेकर आरजेडी के किसी भी नेता का अगर बयान आया है तो वो उनका निजी बयान है. हम चुनाव परिणाम को लेकर आपस में समीक्षा कर रहे हैं. समीक्षा के दौरान अपने विचार रखते हैं ताकि कमियों को दूर किया जा सके.

आरजेडी और कांग्रेस के बीच हार को लेकर एक दूसरे पर ठीकरा फोड़ने की कवायद को रूलिंग पार्टी नूरा कुश्ती बता रही है. बीजेपी प्रवक्ता विनोद शर्मा ने कहा है कि आरजेडी और कांग्रेस के बीच ऐसी नूरा कुश्ती लंबे समय से चली आ रही है. आरजेडी की मानसिकता दूसरों को अपमानित करने की रही है.

मांझी, कुशवाहा और सहनी इसी कारण महागठबंधन का साथ छोड़ चले गये. आरजेडी के साथ कोई जीवंत पार्टी नहीं रह सकती है. कांग्रेस के नेताओं की स्थिति मुर्दे के समान हो गयी है.