Corona को कैसे दे सकते हैं मात, इस महिला ने बताया जीत का 'मंत्र'

एक महिला कोरोना वायरस से ठीक होकर लौटी है.

Corona को कैसे दे सकते हैं मात, इस महिला ने बताया जीत का 'मंत्र'
बिहार में कोरोना से ठीक हुई महिला, बताया इस तरह हो पाई पार. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना: कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी दूनिया परेशान हैं. भारत भी इससे अछूता नहीं है. कोरोना ने भारत में भी अपने पैर तेजी से पसारना शुरू कर दिया है और इसी का नतीजा है कि यहां भी इससे मरने वालों की संख्या में प्रतिदिन इजाफा हो रहा है. इस बीच, एक महिला कोरोना वायरस से ठीक होकर लौटी है.

अनिथा विनोद ने कहा कि मैं एक काम से पति विनोद के साथ कार से पटना से 2 मार्च को नेपाल गई थी और 8 मार्च को लौटी थी. यहां आने से पहले मेरा बड़ा बेटा इटली से 5 मार्च को आया था और मैं 8 से 15 मार्च तक ठीक थी. इसके बाद 16 को पति और छोटा बेटा मोतिहारी गए. इसी दिन मुझे हल्का बुखार व जुकाम हुआ.

फिर 18 को बुखार 100 था. खांसी होने लगी. मैं और बड़ा बेटा दोनों एम्स (AIIMS) गए. वहां दोनों की स्क्रीनिंग हुई. बेटा ठीक था और मुझे संदिग्ध पाया गया और फिर मैं आइसोलेशन वार्ड में चली गई. इसके बाद 22 को रिपोर्ट पॉजिटिव आई. लेकिन, मैं घबराई नहीं.

उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद थी कि मैं ठीक हो जाऊंगी. मेरी जब पहली रिपोर्ट 25 मार्च को टेंटेटिव निगेटिव आई तो भरोसा और बढ़ गया. पॉजिटिव माइंड के साथ दवा व डॉक्टरों की सलाह मानती रही और मैं ठीक हो गई. अनिथा ने कहा कि पॉजिटिव माइंड के साथ दवा खाते रहें. डॉक्टर जो कहे उनकी बातों पर पूरी तरह से अमल करें. दिमाग में कभी निगेटिव भाव नहीं लाएंगे तो जल्द ही रिपोर्ट भी निगेटिव हो जाएगी. मैं इसकी मिसाल हूं.