close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बक्सर में अश्विनी चौबे ने थानेदार को हड़काया, कहा- 'वर्दी उतर सकती है आपकी'

लंबे समय बाद अपने संसदीय क्षेत्र बक्सर के डुमरांव पहुंचे मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने जनता दरबार में जनता को संबोधित किया. 

बक्सर में अश्विनी चौबे ने थानेदार को हड़काया, कहा- 'वर्दी उतर सकती है आपकी'
अश्विनी चौबे ने थाना प्रभारी को हरकाया.

रवि, बक्सर : केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे (Ashwini Choubey) की हनक डुमरांव में दिखी. जनता दरबार में उन्होंने नए भोजपुर ओपी प्रभारी की वर्दी उतरवाने की धमकी दे दी. मंत्री ने सरेआम थानेदार को हड़काया और उसे खूब खरी-खोटी सुनाई. 

लंबे समय बाद अपने संसदीय क्षेत्र बक्सर (Buxar) के डुमरांव पहुंचे मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने जनता दरबार में जनता को संबोधित किया. मंत्री जनता की परेशानियों से रू-ब-रू हो रहे थे. इस बीच एक कार्यकर्ता ने मंत्री अश्विनी चौबे से गुंडा रजिस्टर में उसका नाम दर्ज होने की शिकायत की. इसी पर मंत्री का पारा सातवें आसमान पर जा पहुंचा. उन्होंने थानेदार को सामने बुलाया और जमकर खरी खोटी सुनाई.

अश्विनी चौबे ने शिकायतकर्ता के सामने थानेदार से कहा, 'ये गुंडा दिखाई पड़ रहा है? किसने कहा था गुंडा को नोटिस देने के लिए? अभी बताओ, एसपी कहा था या डीजीपी? किसी को भी गुंडा बता देंगे आप? जो गुंडा है, उसकी गुंडागर्दी तो आप ठीक कर नहीं पाएंगे, जो सीधा है उसको गुंडा बता रहे हैं. नोटिस दे देते हैं. आम आदमी को नोटिस के बदले आप पर कार्रवाई कर देंगे, तो कहां जाएंगे? वर्दी उतर सकती है आपकी. समझते हैं आप. वर्दी उतर सकती है आपकी.'

अश्विनी चौबे की हनक के सामने थानेदार कुछ नहीं बोल पाए. चुपचाप उनकी फटकार सुनते रहे. आखिर में अश्विनी चौबे ने थानेदार को डीएसपी के पास जाकर दस्तावेज देने और सही से जांच करने की हिदायत दी.

लोकसभा चुनाव के वक्त SDM से की थी बदतमीजी
लोकसभा चुनाव से पहले भी अश्विनी चौबे की हनक बक्सर के किला मैदान में देखने को मिली थी. दरअसल, उनकी गाड़ी किला मैदान से बाहर निकल रही थी. तभी एसडीएम केके उपाध्याय ने अश्विनी चौबे की गाड़ी को रोका और चुनाव आयोग के आदेश का हवाला देते हुए दूसरे रूट से निकलने की गुजारिश की. तब अश्विनी चौबे को अधिकारी की ये बात पसंद नहीं आई, तो वे बदतमीजी पर उतर आए. अश्विनी चौबे ने तल्ख होते हुए कहा कि किसकी मजाल है जो कि मेरी गाड़ी रोक दे. इतना कुछ सुनने के बावजूद एसडीएम केके उपाध्याय संयमित नजर आए. वे विनम्रता से मंत्री को चुनाव आयोग के आदेश का हवाला देकर समझाते रहे.

-- Karan, News Desk