close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री का बयान, सात्विक भोजन से बीमारियों की चपेट में नहीं आएंगे लोग

आज के समय में दिनचर्या में बदलाव की वजह से कई बीमारियों की चपेट में लोग आ रहे हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री का बयान, सात्विक भोजन से बीमारियों की चपेट में नहीं आएंगे लोग
चौबे इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में आयोजित वैलनेस कॉन्क्लेव में अपनी बात रख रहे थे.(फाइल फोटो)

कोलकाता: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे (Ashwini Kumar Choubey) ने कहा कि शुद्ध सात्विक भोजन नियमित योग व्यायाम से हम कई तरह की बीमारियों से दूर रह सकते हैं. आज के समय में दिनचर्या में बदलाव की वजह से कई बीमारियों की चपेट में लोग आ रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमें अपनी दिनचर्या को अनुशासित बनाना है तभी हम रोगों को दूर रख सकते हैं. आज कैंसर एक चुनौती से कम नहीं है. इस बीमारी की रोकथाम के लिए हमें अपने दिनचर्या नियमित रूप से व्यायाम, योग, शुद्ध सात्विक संतुलित आहार आदि को शामिल करना पड़ेगा.

चौबे गुरुवार को कोलकाता में चल रहे इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में आयोजित वैलनेस कॉन्क्लेव में अपनी बात रख रहे थे. फेस्टिवल में स्वास्थ्य मंत्रालय की टीम भी भाग ले रही है.

उन्होंने बताया कि 7 नवंबर नेशनल कैंसर अवेयरनेस डे है. इस दिन हम सभी को संकल्प लेना चाहिए कि हम जागरूक होकर बीमारियों को दूर भगाएंगे. भारत में प्रतिवर्ष लगभग 11 लाख कैंसर के नए मामले प्रकाश में आते हैं जो काफी चिंताजनक है. लोगों में जागरूकता फैलाने और इलाज को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा लगातार कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है.

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री ने कहा कि कैंसर में दो तिहाई मामले बिल्कुल एडवांस स्टेज पर पकड़ में आते हैं नतीजा प्रत्येक 8 मिनट में एक मौत कैंसर के कारण हो जाती है. व्यक्तिगत स्तर पर भी मैंने वार अगेंस्ट कैंसर की शुरुआत की है इसकी रोकथाम और निवारण के लिए उत्तम स्तर के शोध की जरूरत है.

यह शोध आईआईटी चेन्नई द्वारा की जा रही है. कुछ महीने पहले मैंने वहां का भ्रमण भी किया था और शोध की प्रगति से अवगत हुआ था. केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री ने फेस्टिवल स्थलों का भ्रमण किया. इस फेस्टिवल में आयुष साइंस एंड टेक्नोलॉजी एंड साइंस इसरो आदि भाग ले रहे हैं. इसका समापन 8 नवंबर को होगा.