हेमंत सरकार पर बरसे बाबूलाल, पूछा-पुलिस को किस काम के लिए रखा गया है

जेएमएम महासचिव सुप्रीयो भट्टाचार्य ने कहा कि, इसको इश्यू बनाया जा रहा है. अभी के समय में इस तरह के मुद्दे उठाना ओछी राजनीति की तरफ ले जाएगा.

हेमंत सरकार पर बरसे बाबूलाल, पूछा-पुलिस को किस काम के लिए रखा गया है
हेमंत सरकार पर बरसे बाबूलाल, पूछा-पुलिस को किस काम के लिए रखा गया है.

रांची: झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) ने अपने आवास पर डोरंडा निवास योग शिक्षिका राफिया नाज की, सुरक्षा का मामला उठाते हुए झारखंड सरकार और पुलिस पर निशाना साधा है. साथ ही, इसको लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi), गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) को पत्र लिखा है.

इस दौरान, बाबूलाल मरांडी ने पूछा कि, पुलिस किस लिए है, पुलिस को किस काम के लिए रखा गया है. राफिया का मामला उठाते हुए बीजेपी नेता ने कहा कि, वह योगा सिखाती हैं पर इनको हर दिन धमकी मिलती है, कुछ लोग इनके पीछे पड़े हैं. इनका परिवार भयभीत है. थाने में कई बार आवेदन दिया पर कार्रवाई नहीं हुई, उल्टे इनको ही माफी मांगने को कहा जाता है.

वास्तव में इनको सुरक्षा की जरूरत है, जिनका काम है लोगों की सुरक्षा देना है, अगर वो भी न सुनें तो लोग कहां जाएं. सरकार का पहला दायित्व सुरक्षा देना है. इन्हें योगा (Yoga) करना छोड़ देने की सलाह दी जाती है.
   
राफिया ने भी बताया कि मेरे साथ ऑफ कैमरा और ऑन कैमरा का गेम चल रहा है. उन्होंने पूछा सरकार बदल जाने से सुरक्षा के मायने भी बदल जाते हैं क्या? मार्च 2020 में मेरी सुरक्षा ले ली गई, तब से लगातार मेल करते रहे, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला.

वहीं, बाबूलाल मरांडी के सवाल उठाने पर जेएमएम महासचिव सुप्रीयो भट्टाचार्य ने कहा कि, इसको इश्यू बनाया जा रहा है. अभी के समय में इस तरह के मुद्दे उठाना ओछी राजनीति की तरफ ले जाएगा. सरकार के पास अपना खुफिया तंत्र है, समय-समय पर सिक्योरिटी एस्सेमेंट किया जाता है. लेकिन फिर भी उनको लगता है तो, सरकार के पास आवेदन दें. सरकार एस्सेमेंट करेगी.