बिहार में 14 दिसंबर से प्लास्टिक बैग पर प्रतिबंध, लगेगा अब जुर्माना

प्लास्टिक मुक्त करने के लिए कई अभियान भी चलाए जा रहे हैं. वहीं, अब 14 दिसंबर से प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने की कवायद भी जारी है.

बिहार में 14 दिसंबर से प्लास्टिक बैग पर प्रतिबंध, लगेगा अब जुर्माना
बिहार में 14 दिसंबर से प्लास्टिक बैग पर बैन. (प्रतीकात्मक फोटो)

पटनाः बिहार में प्रदूषण का मामले में सरकार और प्रशासन अब सख्त होते दिख रही है. प्रदूषण बिहार राज्य में भी अब बड़ी समस्या बनते जा रही है. आलम यह है कि बीते नवंबर महीने में पॉल्यूशन का ग्राफ इस कदर बढ़ा है कि राजधानी पटना और मुजफ्फरपुर देश के टॉप थ्री प्रदूषित शहरों में शामिल किए गए थे. इसे लेकर पटना हाईकोर्ट में याचिका भी दायर की गई है. वहीं, प्रदूषण बढ़ाने सबसे बड़ा हाथ प्लास्टिक को माना जा रहा है.

प्लास्टिक आने वाले दिनों में सभी के लिए बड़ी मुसीबत बनने वाली है. इसलिए प्लास्टिक को हटाने के लिए काफी समय से काम किए जा रहे हैं. प्लास्टिक मुक्त करने के लिए कई अभियान भी चलाए जा रहे हैं. वहीं, अब 14 दिसंबर से प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने की कवायद भी जारी है.

बाजार में प्लास्टिक की थैली सबसे बड़ी समस्या है. प्लास्टिक थैली पर प्रतिबंध लगाने के लिए काम किया जा रहा है. वहीं, पटना हाईकोर्ट ने 14 दिसंबर के बाद से पॉलिथिन बैग पर बैन लगाने और जुर्माना लगाने की चेतावनी दी थी.

शनिवार को पटना के जिलाधिकारी ने बैठक कर पॉलिथिन बैग को बिहार के सभी नगर निगमों में प्रतिबंधित करने का आदेश दिया है. प्रतिबंध में बिहार राज्य के सभी नगर निगमों, नगरपालिकाओं एवं नगर पंचायतों के अधिकारिता में कोई भी व्यक्ति, जिसमें दुकानदार, विक्रेता, थोक विक्रेता, फुटकर विक्रेता, व्यापारी, फेरी वाला अथवा सब्जी वाला आदि सम्मिलित हैं.

जिलाधिकारी ने कहा कि विभाग द्वारा जीविका को प्लास्टिक थैली के विकल्प के रूप में जूट, कपड़े के थैले एवं कागज के ठोंगा इत्यादि विकल्प को शहरी क्षेत्रों में इस्तेमाल के लिए उपलब्ध कराने के लिए आग्रह किया गया है. 

आपको बता दें कि प्लास्टिक के उपयोग पर अलग-अलग रूप से जुर्माना लगाया जाएगा. जिसमें 1 हजार रुपये से लेकर 5 हजार रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है. वहीं, अधिकतम पांच साल की जेल की सजा भी हो सकती है.

बायो वेस्ट के संग्रहण और भंडारण के लिए प्रयोग होने वाले 50 माइक्रोन से अधिक के कैरी बैग को प्रतिबंधित नहीं किया गया है. सभी प्रकार खाद्य और अन्य पदार्थों की पैकेजिंग, दूध और पौधा उगाने के लिए प्रयोग होने वाले कैरी बैग को भी इससे मुक्त रखा गया है.