close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: बेतिया के बीडीओ ने पेश की मिसाल, पत्नी की पीएचसी में कराई डिलिवरी

बीडीओ शैलेन्द्र कुमार सिंह की पत्नी को डिलिवरी होनी थी. उम्मीद की जा रही थी कि वे भी बड़े अधिकारियों की तरह किसी बड़े निजी अस्पताल का रुख करेंगे. 

बिहार: बेतिया के बीडीओ ने पेश की मिसाल, पत्नी की पीएचसी में कराई डिलिवरी
बीडीओ ने सरकारी स्वास्थ्य को लेकर अद्भुत मिसाल पेश की है.

बेतिया: बिहार के बेतिया के नौतन प्रखंड के बीडीओ ने सरकारी स्वास्थ्य को लेकर अद्भुत मिसाल पेश की है. दरअसल, बीडीओ शैलेन्द्र कुमार सिंह की पत्नी को डिलिवरी होनी थी. उम्मीद की जा रही थी कि वे भी बड़े अधिकारियों की तरह किसी बड़े निजी अस्पताल का रुख करेंगे. लेकिन, उन्होंने तब सबको हैरान कर दिया जब वह अपने माता-पिता को संग लेकर पत्नी के साथ नौतन के छोटे पीएचसी में पहुंच गए. 

वहीं, उनकी पत्नी ने बेटी को जन्म दिया. सारे परिवार में खुशियां दौड़ गई. बीडीओ की इस अनूठी पहल की चर्चा हर तरफ हो रही है. बीडीओ शैलेन्द्र कुमार सिंह की यह पहल निश्चित रूप से सराहनीय है क्योंकि ऐसी पहलकदमी से न सिर्फ सिस्टम में सुधार के रास्ते खुलते हैं, बल्कि ऐसी मिसाल से आम लोग भी उस राह को अपनाने की कोशिश करते हैं. 

अपनी इस पहल पर बीडीओ शैलेंद्र का कहना है कि मैं एक सरकारी कर्मचारी हूं और सरकारी अस्पताल में ही पत्नी की डिलिवरी हुई है. हालांकि, उन्होंने ये माना कि मैं बहुत ही तनाव में था, लेकिन अस्पताल प्रशासन ने परिवार की तरह मेरे तनाव को दूर कर दिया. उन्होंने कहा कि अपनी इस पहल के जरिए मैं यह संदेश देना चाहता था कि लोग बड़े बड़े नर्सिंग होम जाने की जगह सरकारी अस्पताल की सुविधा लें. 

उन्होंने कहा कि मैं इसी क्षेत्र का बीडीओ हूं, मेरी इस पहल से गांव-गांव में लोगों को एक विश्वास और उम्मीद जगेगी और वो सरकारी सुविधा की तरफ ध्यान देंगे. अस्पताल के डॉक्टर शंकर रजक ने बताया कि प्रखंड विकास अधिकारी की इस पहलकदमी से क्षेत्र के लोगों में PHC के प्रति सकारात्मक संदेश जाएगा. ऐसे समय में जब जनता सरकारी अस्पतालों की दयनीय हालत के चलते उससे दूर भाग रही है ऐसे समय में एक बड़े अधिकारी की यह पहल स्वास्थ विभाग के लिए संजीवनी तो जनता के लिए प्रेरणा बनेगी.

-- Dharmendra Mani Rajesh, News Desk