Jamui: शव को बिना पैक किए ठेले पर लादकर ले गए परिजन, ग्रामीणों में भय

Bihar Corona News: रात के 11 बजे मृतक के शव को क्लिनिक से बाहर करवा दिया गया. इस घटना से परिजन काफी परेशान हो गए. काफी प्रयास किया लेकिन उन्हें कोई वाहन नहीं मिला, तब हार कर परिजन शव को एक खाट पर लिटा कर अपने घर ले गए.

Jamui: शव को बिना पैक किए ठेले पर लादकर ले गए परिजन, ग्रामीणों में भय
शव को बिना पैक किए ठेले पर लादकर ले गए परिजन.

Jamui: चकाई थानाक्षेत्र के नगड़ी गांव के बेलो महतो के बड़े पुत्र कारू वर्मा की तबियत 3 दिन पहले खराब हो गई थी. वह जमुई में रहकर राजमिस्त्री का काम करता था. जमुई में ही एक सप्ताह पहले उसने अपनी कोरोना जांच कराई थी जिसकी रिपोर्ट पोसिटिव आई थी. इसके बाद उसे होम आइसोलेशन में भेज दिया गया था. शुक्रवार को जब उसकी तबियत ज्यादा खराब हो गई तो उसे चकाई के एक निजी क्लिनिक में भर्ती कराया गया. जहां देर रात उसकी मौत हो गई.

रात 11 बजे क्लिनिक से बाहर कर दिया गया शव
इधर, क्लिनिक के चिकित्सक और कर्मियों ने मानवता को शर्मसार कर दिया. रात के 11 बजे मृतक के शव को क्लिनिक से बाहर करवा दिया गया. इस घटना से परिजन काफी परेशान हो गए. काफी प्रयास किया लेकिन उन्हें कोई वाहन नहीं मिला, तब हार कर परिजन शव को एक खाट पर लिटा कर अपने घर ले गए. क्लिनिक की लापरवाही ने संक्रमण को बढ़ावा दिया है. शव को बिना पैक किए ही परिजनों को सौंप दिया गया.

ये भी पढ़ें- बिहार-झारखंड में वैक्सीनेशन का तीसरा चरण फ्लॉप! सियासी गलियारों में वैक्सीन की कमी के मुद्दे पर सिकी रोटियां

ठेला पर शव लाद श्मसान ले गए परिजन
बिना पैक किए शरीर के गांव में आने से गांव वाले दहशत में हैं. साथ ही किसी ने अंतिम संस्कार में भी परिजन का साथ नहीं दिया. बुजुर्ग पिता और छोटा भाई खुद ठेले पर शव को लादकर शमशान घाट ले जाने के लिए निकल गए. बता दें कि मृतक एक बड़े भाई की भी तबियत खराब है.

ये भी पढ़ें- 'सीवान का साहेब' कहलाना पसंद करता था शहाबुद्दीन, जानें जेल जाने की पूरी कहानी

(इनपुट- मनीष कुमार)