close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार : मानसून सत्र से पहले स्पीकर ने बुलाई सर्वदलीय बैठक, मीडिया से भी मदद की अपील

स्पीकर ने मीडिया से सकारात्मक खबरों को प्रमुखता देने और बेहतर विमर्श को प्रोत्साहित करने का अनुरोध किया.

बिहार : मानसून सत्र से पहले स्पीकर ने बुलाई सर्वदलीय बैठक, मीडिया से भी मदद की अपील
28 जून से बिहार विधानमंडल का बजट सत्र. (फाइल फोटो)

पटना : बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने मानसून सत्र के सुचारू संचालन के लिए एक सर्वदलीय बैठक बुलाई. इस बैठक में सभी दलों से सहयोग की अपील की. ज्ञात हो कि विधानमंडल का मानसून सत्र 28 जून से शुरू होकर 26 जुलाई तक चलेगा. सत्र के सुचारु संचालन के लिए अध्यक्ष ने सर्वदलीय बैठक बुलाई. बैठक में संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार, ऊर्जा मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अरूण कुमार सिन्हा, कांग्रेस के डॉ. अशोक कुमार और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के राजू तिवारी शामिल हुए.

इतना ही नहीं, स्पीकर विजय कुमार चौधरी ने मीडिया से सहयोग की भी अपेक्षा की है. उन्होंने कहा कि सदन में विमर्श की गुणवत्ता बढ़ाना हमारा उद्देश्य है. विधानसभा के विस्तारित भवन में प्रेस सलाहकार समिति की बैठक के दौरान स्पीकर ने कहा कि सत्र के दौरान विभिन्न विभागों का बजट पेश होना है. आमलोगों के हक में कई बड़े फैसले लिए जाएंगे. ऐसे में हमें अनुशासित और मर्यादित तरीके से सदन के संचालन में मीडिया का सहयोग चाहिए.

स्पीकर ने मीडिया से सकारात्मक खबरों को प्रमुखता देने और बेहतर विमर्श को प्रोत्साहित करने का अनुरोध किया. उन्होंने कहा कि पहले भी मीडिया का सहयोग उन्हें मिलता रहा है. आगे भी ऐसी ही अपेक्षा है. किसी सदस्य की गतिविधियां अगर अमर्यादित है तो उसे जरूर दिखाइए. किंतु यह भी तय कीजिए कि हमें संदेश क्या देना है. हम किसी खबर को दबाने की बात नहीं कर रहे, लेकिन नकारात्मकता के बदले सकारात्मकता को तरजीह मिलनी चाहिए.

स्पीकर ने प्राथमिकता के आधार पर खबरों के चयन और प्रकाशन का आग्रह किया. इसके पहले विधानसभा की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर स्पीकर चौधरी ने सूबे के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ भी बैठक की. इसमें हर पहलू की विस्तार से समीक्षा की गई. स्पीकर ने अधिकारियों को पूरी गंभीरता के साथ इस मुद्दे पर सतर्क रहने का निर्देश दिया.