इंटर में फेल छात्रों के साथ जालसाजी, फोन कर पास कराने के बदले मांगा जा रहा पैसा

बिहार बोर्ड इंटरमीडिएट का रिजल्ट आ चुका है और हर साल की तरह इस साल भी इंटरमीडिएट का रिजल्ट सवालों के घेरे में है.दरअसल फेल छात्रों को पास कराने के नाम पर फोन कर 12 हजार रूपए की मांग की जा रही है.

इंटर में फेल छात्रों के साथ जालसाजी, फोन कर पास कराने के बदले मांगा जा रहा पैसा
बिहार शिक्षक माध्यमिक संघ के अध्यक्ष ने भी माना है कि बिना BSEB की मिली भगत के यह संभव नहीं है.

पटनाबिहार बोर्ड इंटरमीडिएट का रिजल्ट आ चुका है और हर साल की तरह इस साल भी इंटरमीडिएट का रिजल्ट सवालों के घेरे में है.कई छात्रों ने कल भी बीएसईबी के कार्यालय खराब कॉपी चेकिंग और रिजल्ट में सुधार की मांग को लेकर तोड़ फोड़ की.लेकिन अब रिजल्ट जारी होने के बाज फर्जीवाड़े का खेल भी बड़े पैमाने पर शुरु हो गया है. 

दरअसल फेल छात्रों को पास कराने के नाम पर फोन कर 12 हजार रूपए की मांग की जा रही है. इतना ही नहीं छात्रों को बीएसईबी के चेयरमैन से बात कराकर पास कराने की भी गारंटी दी जा रही है. इसमें सबसे बड़ा सवाल ये उठ रहा है कि आखिर छात्रों के पर्सनल डाटा यानि मार्क्स और फोन नंबर कैसे लीक हो रहे हैं.

सबसे हैरानी वाली बात ये है कि बीएसईबी ने परिक्षार्थियों की सभी जानकारी सुरक्षित रखने के लिए डिजिटल लॉकर की व्यवस्था भी की है. जी न्यूज ने छात्रों से बात की पूर घटना की जानकारी ली. छात्रों से बात कर एसबीआई का अकाउंट नंबर दिया गया और पैसे भी डालने के लिए बोला गया.स्टूडेंट ने जब इस अकाउंट में पैसे नहीं दिये तो उसके बाद फिर दूसरे नंबर से फोन कर एसबीआई के दूसरे अकाउंट में पैसे डालने के लिए कहा गया. 

ये दोनों बैंक अकाउंट पूर्णिया गुलाबबाग और असम के तिनसुकिया सदाई ब्रांच का है. बिहार शिक्षक माध्यमिक संघ के अध्यक्ष केदार पाण्डेय ने भी माना है कि बिना बोर्ड के कर्मचारियों की मिली भगत के स्टूडेन्टस के पर्सनल डाटा लीक नहीं हो सकते हैं. 

ये पहला मौका नहीं है जब रिजल्ट के बाद जालसाजों ने अपने पैर पसारने शुरु कर दिये हैं.बीएसईबी फेल स्टूडेन्ट्स को पास करने के लिए स्क्रूटनी के जरिये एक मौका दे रही है इसके अलावा जुलाई में कंपार्टमेंटल परीक्षा भी आयोजित की जाएगी.