close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजगीरः सीएम नीतीश कुमार ने किया भगवान बुद्ध की 70 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण

बिहार के नालंदा जिले के अंतर्गत पर्यटन स्थल राजगीर के घोड़ा कटोरा झील में बने 70 फीट ऊंचे भगवान बुद्ध की प्रतिमा का अनावरण कर दिया गया है.

राजगीरः सीएम नीतीश कुमार ने किया भगवान बुद्ध की 70 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण
राजगीर के घोड़ा कटोरा झील में स्थित 70 फीट ऊंची भगवान बुद्ध की प्रतिमा.

नालंदाः बिहार के नालंदा जिले के अंतर्गत पर्यटन स्थल राजगीर के घोड़ा कटोरा झील में बने 70 फीट ऊंचे भगवान बुद्ध की प्रतिमा का अनावरण कर दिया गया है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसका अनावरण करने यहां पहुंचे. उन्होंने राजगीर महोत्सव के उद्घाटन के पहले भगवान बुद्ध की 70 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया.

तीन दिवसीय राजगीर महोत्सव में देश-विदेश से सैलानी यहां पहुंचते हैं. इस वजह से उनके घुमने के लिए इसका अनावरण पहले ही किया गया है. जिससे की सैलानी यहां आएं तो इस जगह का आनंद ले सकें. यहां भगवान बुद्ध की भव्य प्रतिमा घोड़ा कटोरा झील के बीच में बनी हुई है.

पहाड़ियों के बीच झील और उसमें भगवान बुद्ध की भव्य प्रतिमा काफी मनमोहक लगती है. राजगीर महोत्सव में देश-विदेश के पर्यटक इस घोड़ा कटोरा में मनोरम दृश्य के साथ भगवान बुद्ध की दर्शन कर सकेंगे.

भगवान बुद्ध की प्रतिमा का अनावरण करने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी दोनों यहां पहुंचे थे. इस लिहाज से यहां कड़ी सुरक्षा व्यवस्ता की गई थी. पूरे पहाड़ियों पर पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था.

बिहार सरकार के द्वारा राजगीर को विश्व पटल पर एक बड़ा पर्यटन स्थल बनाने के लिए लगातार बढ़ावा दे रही है. इसके लिए राज्य सरकार के द्वारा यहां कई काम कराए गए हैं, जो टूरिज्म को ध्यान में रखकर किया गया है. इससे पहले घोड़ा कटोरा स्थल में पार्क का निर्माण भी करवाया था.

वहीं, अब घोड़ा कटोरा झील में बैटरी चालित नाव भी चलाया जाएगा. जिससे लोग झील का आनंद ले सकेंगे. इको फ्रैंडली को ध्यान में रखते हुए नाव को बैटरी से चलाया जाएगा. इस झील के पास आने के लिए लोग पैदल, साइकिल और टमटम का प्रयोग करे सकेंगे. हालांकि बैटरी चालित रिक्शा भी जल्द शुरू किया जा सकता है.

बताया जाता है कि इस झील के पास सिक्खों के पहले गुरू गुरुनानक देव भी यहां आए थे. यहां एक गुरुनानक शीतल कुंड भी है. सरकार यहां एक गुरुद्वारा का भी निर्माण करा रही है. बताया जा रहा है कि यह गुरुद्वारा अगले साल तक तैयार हो जाएगा.