close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

352वें प्रकाश पर्व का आज आखिरी दिन, गुरुद्वारा में मत्था टेकने पहुंचेंगे CM नीतीश

इस वर्ष 11 से 13 जनवरी तक प्रकाश पर्व मनाया जा रहा है. पहली बार कंगन घाट में इस पर्व को लेकर थ्री स्टार स्विस कॉटेज बनाए गए हैं. 

352वें प्रकाश पर्व का आज आखिरी दिन, गुरुद्वारा में मत्था टेकने पहुंचेंगे CM नीतीश
गुरुद्वारा में मत्था टेकने के लिए जाएंगे नीतीश कुमार. (फाइल फोटो)

पटना : 352वें प्रकाश पर्व का आज अंतिम दिन है. गाय घाट से पटना साहिब गुरुद्वारा तक श्रद्धालुओं भारी संख्या देखने को मिल रही है. कीर्तन करते हुए जत्था यहां पहुंचकर मत्था टेक रहा है. 'जो बोले सो निहाल' के जयकारों से पूरा शहर गुंजायमान हो रहा है. सिखों के इस पर्व को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की खास रुचि रहती है. आज वह खुद भी मत्था टेकने के लिए गुरुद्वारा जाएंगे.

इस वर्ष 11 से 13 जनवरी तक प्रकाश पर्व मनाया जा रहा है. पहली बार कंगन घाट में इस पर्व को लेकर थ्री स्टार स्विस कॉटेज बनाए गए हैं. यहां कुल 10 थ्री स्टार स्विस कॉटेज बनाए गए हैं, जिनमें श्रद्धालुओं के सुख-सुविधा का खास खयाल रखा गया है.

अग्निशमन में तीन डीएसपी रैंक के पदाधिकारी, चार फायर स्टेशन ऑफिसर, चार सब ऑफिसर, 60 फायर मैन स्पेशल बटालियन के जवान, चार मिस्ट टेक्नोलॉजी, तीन बड़े फायर टेंडर और 138 पोर्टेबल अग्निशमन यंत्र की व्यवस्था की गई है.

प्रकाश पर्व को लेकर 3000 से अधिक जिला पुलिस बल की तैनाती की गई है. 205 टेंट सिटी का निर्माण कराया गया है. इसके 4200 से अधिक श्रद्धालुओं ने बुकिंग कराई है. पंजाब से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए बिहार सरकार और पंजाब सरकार की ओर से दो स्पेशल ट्रेन चलाई गई है. श्रद्धालुओं के लिए पटना जंक्शन से कंगन घाट तक के लिए 20 से अधिक ई रिक्शा चलाए जा रहे हैं. तीन डोरमेटरी टेंट की भी व्यवस्था की गई है. डोरमेटरी में 500 से अधिक श्रद्धालुओं के विश्राम करने की व्यवस्था की गई है.

प्रकाश पर्व को लेकर 600 से अधिक वोलेंटियर्स को श्रद्धालुओं की सेवा में लगाया गया है. टेंट सिटी में लंगर की व्यवस्था की गई है, जहां श्रद्धालुओं को खाना परोसा जाता है. देश के अलग-अलग राज्यों से भारी संख्या में श्रद्धालुओं की सेवा करने के लिए सेवादार पहुंचे हैं. वहीं, टेंट सिटी में बच्चों के मनोरंजन के लिए झूला भी लगाए गए हैं. श्रद्धालुओं की बढ़ती भीड़ को देखते हुए हेल्प डेस्क और बिहार राज्य स्वास्थ समिति की ओर से पटना जिला समेत अन्य जिलों से कुल 80 एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई है.