संकल्प रैली को फ्लॉप बताकर कांग्रेस ने किया मजबूत होने का दावा, RJD को भी दी चुनौती

रैली में भीड़ जुटाने को लेकर धीरज ने तो एनडीए के साथ-साथ अपने सहयोगी दलों को भी चुनौती दे डाली. 

संकल्प रैली को फ्लॉप बताकर कांग्रेस ने किया मजबूत होने का दावा, RJD को भी दी चुनौती
बिहार कांग्रेस ने एनडीए की रैली को बताया फ्लॉप. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना : रविवार यानी तीन मार्च को पटना के गांधी मैदान में हुई राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की रैली के बाद कांग्रेस खुद को बिहार में मजबूत देखने लगी है. सुनने में हैरानी जरुर होगी, लेकिन पार्टी के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष श्याम सुंदर सिंह धीरज ने यह दावा किया है. धीरज ने एनडीए की रैली को कमजोर बताते हुए इसका फायदा महागठबंधन में कांग्रेस को मिलने की बात कही है. साथ ही उन्होंने इशारों ही इशारों में महागठबंधन के सहयोगी दलों से कहा कि अब कांग्रेस को कमजोर समझकर दबाने की गलती न करें.

श्याम सुंदर सिंह धीरज का कहना है कि तीन फरवरी को कांग्रेस ने पटना के गांधी मैदान में रैली को लेकर जो लकीर खींची थी, उसे नीतीश कुमार और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) मिलकर भी नहीं छोटा कर पायी. एनडीए के सभी दल मिलकर भी कांग्रेस की रैली का तोड़ नहीं निकाल पाए, जबकि इसके लिए सारा सरकारी तंत्र जुटा था.

रैली में भीड़ जुटाने को लेकर धीरज ने तो एनडीए के साथ-साथ अपने सहयोगी दलों को भी चुनौती दे डाली. धीरज ने कहा है कि नीतीश कुमार और बीजेपी की गलतफहमी दूर हो चुकी है. अब और किसी को भीड़ जुटाने को लेकर गलतफहमी है तो वे दल रैली से कोशिश कर सकते हैं. महागठबंधन में आरजेडी के ताकतवर होने के सवाल पर धीरज ने कहा कि मेरी ओर से आरजेडी को शुभकामना है. आरजेडी भी रैली कर देख ले. हम मंच पर जाकर भाषण दे आएंगे, लेकिन कांग्रेस जैसी रैली नहीं होगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के प्रति लोगों में विश्वास बढा है. राहुल गांधी में लोगों का विश्वास बढ़ा है.

Bihar Congress working President
श्याम सुंदर सिंह धीरज, कांग्रेस कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष 

कांग्रेस नेता यहीं नहीं रुके. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की जरुरत आज सभी को है. कुछ दलों के साथ हमने समझौता जरूर किया है, लेकिन हमें बैशाखी की जरुरत नहीं. उत्तर प्रदेश में हमने दूसरे दलों को भी साथ लेकर चलने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं आए. बिहार में भी हम सहयोगी दलों को साथ लेकर चलने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम अपनी जमीन छोड़ दें. कांग्रेस मजबूत हुई है. कांग्रेस का वक्त अब आ चुका है. 

वहीं, महागठबंधन में सीट शेयरिंग के मसले पर धीरज ने कहा कि पूरे देश में हम फ्रंट फुट पर खेलेंगे. हमारे नेता राहुल गांधी ने इसकी घोषणा की है. लोकसभा चुनाव में हमें कमजोर करने की कोशिश बीजेपी को मदद करने जैसा है. लोकसभा चुनाव में सीटों के मसले पर हम आगे रहेंगे. जहां तक विधानसभा चुनाव की बात है तो हमारे सहयोगी को हम सत्ता में बैठाएंगे.

 

इधर, कांग्रेस के दावे पर आरजेडी ने चुप्पी साध ली है. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रामचन्द्र पूर्वे ने कांग्रेस के दावे पर कुछ भी बोलने से साफ इनकार कर दिया है. हलांकि पूर्वे आरजेडी की पुरानी रैलियों का जिक्र जरूर करते हैं. उनका कहना है कि आरजेडी के गरीब रैले का कोई तोड़ नहीं है. वहीं, आरजेडी की ओर से चुनाव से पहले रैली किए जाने के सवाल को पूर्वे टाल गये. उन्होंने कहा कि आरजेडी अब लोगों के दिलों में बसती है. नीतीश मोदी सरकार से लोग अब ऊब चुके हैं.

वहीं, बीजेपी ने कांग्रेस के दावों पर चुटकी ली है. बीजेपी प्रवक्ता प्रेमरंजन पटेल ने कहा है कि कांग्रेस टिकट के लिए लालू प्रसाद की ओर टकटकी लगाये हुए है. ऐसे में उसकी मजबूती का दावा हास्यास्पद लगता है. आरजेडी के सहारे चलनेवाली कांग्रेस का हमसे कोई मुकाबला नहीं है.