close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कांग्रेस विधानमंडल दल की बैठक से पहले फिर गूंजा महागठबंधन से अलग होने का शोर

सदानंद सिंह ने साफ तौर पर कहा है कि बिहार में कांग्रेस अपने पैरों पर खडा हो तो बेहतर होगा. 

कांग्रेस विधानमंडल दल की बैठक से पहले फिर गूंजा महागठबंधन से अलग होने का शोर
सदानंद गौर ने कहा कांग्रेस को अपने दम पर खड़ा होना जरूरी है.

पटनाः बिहार में 15 जून को कांग्रेस विधानमंडल दल की बैठक होने वाली है. बैठक में पार्टी के विधायक एमएलसी हार की समीक्षा करेंगे. साथ ही विधानमंडल के मॉनसून सत्र को लेकर भी पार्टी रणनीति बनाएगी. लेकिन इस बैठक से पहले ही बैठक में पास होनेवाला प्लान लीक हो चुका है. पार्टी विधानमंडल दल के नेता ने साफतौर पर कहा है कि कांग्रेस को अगर मजबूत होना है तो अकेले अपने पैरों पर खड़ा होना होगा.

जिलाध्यक्षों के साथ समीक्षा के बाद कांग्रेस पार्टी अब अपने विधायकों के साथ समीक्षा करेगी. इसके लिए पार्टी के विधानमंडल दल के नेता सदानंद सिंह ने 15 जून को बैठक बुलायी है. बैठक में पार्टी के एमएलए एमएलसी शामिल होंगे. बैठक में दो एजेंडों पर चर्चा होगी. पहला एजेंडा लोकसभा चुनाव को लेकर बिहार में पार्टी की बुरी हार की समीक्षा है. वहीं, दूसरा एजेंडा 28 तारीख से शुरु होने वाले विधानमंडल के मॉनसून सत्र में पार्टी के रणनीति को लेकर है.

कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता सदानंद सिंह ने बैठक से पहले ही बैठक में होने वाले निर्णय को लेकर संकेत में मैसेज दे दिया है. सदानंद सिंह ने साफ तौर पर कहा है कि बिहार में कांग्रेस अपने पैरों पर खड़ा हो तो बेहतर होगा. बिहार के कांग्रेसी नेताओं की भावनाओं से हम आलाकमान को अवगत करा देंगे. लेकिन फैसला तो आलाकमान को ही लेना है.

वहीं, चुनाव में बुरी हार के लिए सदानंद सिंह ने कहा है कि महागठबंधन सिर्फ नाम का था, न तो सही समय पर सीट का बंटवारा हुआ और न ही सही समय पर चुनाव प्रचार की शुरुआत हुई. सीटों का बंटवारा भी ठीक से नहीं हुआ. यहां तक कि पूरे चुनाव में महागठबंधन बिखरा नजर आया. जबकि एनडीए का गठबंधन काफी इंटैक्ट था. 

कांग्रेस नेता के बयान से आरजेडी खासी नाराज हो गयी है. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता भाई वीरेन्द्र ने सदानंद सिंह की मनसा पर सवाल खडे कर दिये हैं. भाई वीरेन्द्र ने कहा है कि सादनंद सिंह के विचार आजकल बदले बदले से नजर आ रहे हैं. उन्हें अपने बेटे को चुनाव लड़वाना है. टिकट किस दल से मिलेगा यह सादनंद सिंह बता सकते हैं. आरजेडी नेता ने कहा है कि बिहार के नेताओं की बातों को वो एहमियत नहीं देते जबतक राहुल गांधी की इसपर कोई प्रतिक्रिया नहीं आ जाती.