close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प्रशिक्षण के बजाय पटना घूमने आते हैं ट्रेनी पुलिसकर्मी- बिहार डीजीपी

प्रशिक्षण के लिए पटना आनेवाले पुलिसकर्मी दिल से सीखने नहीं आते. पटना घूमने या रिश्तेदारों से मिलने चले आते हैं. जबकि ट्रेनिंग का मकशद खुद को डेवेलप करना होता है.

प्रशिक्षण के बजाय पटना घूमने आते हैं ट्रेनी पुलिसकर्मी- बिहार डीजीपी
डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा है पुलिस में एटीट्यूड के प्रशिक्षण की भी जरूरत है.

पटना: बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने पुलिस प्रशिक्षण को लेकर बड़ा बयान दिया है. प्रशिक्षण के लिए पटना आनेवाले पुलिसकर्मी दिल से सीखने नहीं आते. पटना घूमने या रिश्तेदारों से मिलने चले आते हैं. जबकि ट्रेनिंग का मकशद खुद को डेवेलप करना होता है.

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा है पुलिस में एटीट्यूड के प्रशिक्षण की भी जरूरत है. कुछ लोगों को ट्रेनिंग के लिए बुलाया जाता है तो वो जम्हाई लेते हैं. प्रशिक्षक बोलते रहते हैं उन्हें कोई फर्क नही पड़ता. लेकिन इस सोच को बदलने की जरूरत है.

 

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने साथ ही कहा है कि हत्या करने पर सजा है, डकैती चोरी के लिए भी सजा है. लेकिन ये चीजें बंद नही हुई. कानून के लिए सम्मान और भय जरूरी होता है. आज की तारीख में कानून का सम्मान कम हो रहा. कानून का भय भी कम हो रहा है. ऐसे में कानून का भय जरूरी हो गया है. 

उन्होंने कहा कि महिलाओं पर अत्याचार इसलिए बढ़ रहे हैं क्योंकि उनके बिलीफ सिस्टम में महिलाओं का सम्मान कभी रहा नही. नारी हिंसा में कमी लाने के लिए पुरुषों के एटीट्यूड में बदलाव की जरूरत. सिर्फ कानून के भय औरतों के खिलाफ हिंसा कम नही होगी.