बिहार के पूर्व राज्यपाल बूटा सिंह का निधन, ब्रेन हैमरेज के बाद एम्स में चल रहा था इलाज

शनिवार 2 जनवरी को 86 वर्ष की उम्र में उन्होंने एम्स में आखिरी सांस ली. वो लंबे समय से बीमार थे. उन्हें अक्टूबर में ब्रेन हैमरेज के बाद एम्स में भर्ती कराया गया था. 

बिहार के पूर्व राज्यपाल बूटा सिंह का निधन, ब्रेन हैमरेज के बाद एम्स में चल रहा था इलाज
शनिवार 2 जनवरी को 86 वर्ष की उम्र में उन्होंने एम्स में आखिरी सांस ली. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः वरिष्ठ कांग्रेस नेता बिहार (Bihar) के पूर्व राज्यपाल बूटा सिंह (Buta Singh) का निधन हो गया. शनिवार 2 जनवरी को 86 वर्ष की उम्र में उन्होंने एम्स में आखिरी सांस ली. वो लंबे समय से बीमार थे. उन्हें अक्टूबर में ब्रेन हैमरेज के बाद एम्स में भर्ती कराया गया था. 

बूटा सिंह पंजाब के बड़े दलित नेता के तौर पर जाने जाते हैं. वो कांग्रेस की कई सरकार का हिस्सा रहे हैं. राजीव गांधी सरकार में उन्हें गृह मंत्री की जिम्मेदारी भी सौंपी गई थी. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करके उनके निधन पर शोक जताया है. बूटा सिंह नवंबर 2004 से जनवरी 2006 तक बिहार के राज्यपाल भी रह चुके हैं.

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ दलित नेता सरदार बूटा सिंह का जन्‍म 21 मार्च, 1934 को पंजाब के जालंधर जिले के मुस्तफापुर गांव में हुआ था. राजीव गांधी की सरकार में वर्ष 1984 से 1986 तक कृषि मंत्री और 1986 से 1989 तक गृह मंत्री रहे हैं. बूटा सिंह साल 1962 से 2004 के बीच आठ बार लोकसभा के लिए चुने जा चुके हैं. 

कांग्रेस नेता बूटा सिंह वर्ष 2004 से 2006 तक बिहार के राज्यपाल रहे. साथ ही वह वर्ष 2007 से 2010 तक राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. साल 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस छोड़कर बूटा सिंह समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए थे.