close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

किसानों से धानों को सुखाकर खरीदेगी बिहार सरकार, लगाए गए ड्रायर मशीनें

सुशील मोदी ने गुरुवार को बताया कि 30 नवंबर के पहले धान की कुटाई के लिए चावल मीलों को पैक्स से संबद्ध करने का निर्देश दिया गया है. 

किसानों से धानों को सुखाकर खरीदेगी बिहार सरकार, लगाए गए ड्रायर मशीनें
प्रतीकात्मक तस्वीर.

पटना : बिहार में इस साल प्रदेश सरकार नमीयुक्त धानों को सुखाकर खरीदेगी. इसके लिए क्रय केंद्रों पर ड्रायर मशीनें लगाई जा रही है. इस साल खरीफ मौसम में किसानों को पिछली बार से 65 रुपये अधिक की दर से 1,815 रुपये प्रति क्विंटल भुगतान किया जाएगा. बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने बताया कि 18-18 लाख रुपये की लागत से राज्य के 61 क्रय केंद्रों पर ड्रायर मशीनें लगाई गई हैं.

आगे उन्होंने कहा, 'मानक से अधिक नमी की स्थिति में भी धान को सुखा कर किसानों से खरीद की जाएगी. पहले जहां चावल प्राप्ति के बाद प्राथमिक कृषि साख सहयोग समिति (पैक्स) को भुगतान करने में महीनों लग जाता था, वहीं इस साल राज्य खाद्य निगम को तीन दिनों के अंदर और धान खरीद के 48 घंटों में किसानों को भुगतान करने का आदेश दिया गया है."

सुशील मोदी ने गुरुवार को बताया कि 30 नवंबर के पहले धान की कुटाई के लिए चावल मीलों को पैक्स से संबद्ध करने का निर्देश दिया गया है. 

मोदी ने बताया कि वर्ष 2019-20 के खरीफ मौसम में किसानों को पिछली बार से 65 रुपये अधिक की दर से 1,815 रुपये प्रति क्विंटल का भुगतान किया जाएगा. इस साल 15 नवंबर से प्रारंभ होने वाले धान खरीद का लक्ष्य 30 लाख म्रिटीक टन है. चावल रखने के लिए 30 हजार गन्नी बेल्स बोरा की खरीद की जाएगी. उल्लेखनीय है कि पिछले साल 14.44 लाख म्रिटीक टन धान की खरीद की गई थी. 

उपमुख्यमंत्री ने केवल नए निबंधित चावल मीलों का ही भौतिक सत्यापन करने और क्रय केन्द्रों पर दिसम्बर तक 39 ड्रायर मशीन लगाने तथा 5,500 पैक्सों और 500 से अधिक व्यापार मंडलों के जरिए धान की खरीद समय से शुरू करने का निर्देश दिया गया है.