ऑक्सीजन की कमी से तड़पकर हो रही मरीजों की मौत, अस्पतालों ने खड़े कर दिए हाथ

Bihar Samachar: पटना के सरकारी और निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी के कारण निजी अस्पतालों ने कोरोना संक्रमित मरीज को भर्ती करने को लेकर हाथ खड़े कर दिए है. 

ऑक्सीजन की कमी से तड़पकर हो रही मरीजों की मौत, अस्पतालों ने खड़े कर दिए हाथ
ऑक्सीजन की कमी से तड़पकर हो रही मरीजों की मौत. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Patna: कोरोना महामारी के कारण मौत का अंकाड़ा भी बढ़ रहा है. लोगों मे खौफ का माहौल है. इस हालात में सरकार लोगों को जागरूक करने के लिए कई कदम उठा रही है. ताकि संक्रमण से बचाव हो सके. वहीं, पटना के सरकारी और निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी के कारण निजी अस्पतालों ने कोरोना संक्रमित मरीज को भर्ती करने को लेकर हाथ खड़े कर दिए है और इसे लेकर समस्याएं उत्पन्न होने लगी है.

ये भी पढ़ेंः Bihar: लोगों को डराने लगे हैं कोरोना के आंकड़े, हर दिन रिकॉर्डतोड़ सामने आ रहे केस

वहीं, इस बारे में पटनाजिलाधिकारी ने कहा कि परेशान होने की कोई बात अभी नहीं है. ऑक्सीजन उत्पादन करने वाले कर्मी और पदाधिकारियों के साथ बैठक की गई है. बैठक में निर्देश दिए गए हैं कि 90 प्रतिशत ऑक्सीजन सिलेंडर अस्पतालों को मुहैया कराई जाए और 10 प्रतिशत ही निजी संस्थानों को दिए जाएंगे. साथ ही, उन्होंने कहा कि कोरोना से पीड़ित मरीज के अलावा भी अन्य बीमारी से संक्रमितों लोगों की भी संख्या है और इसके लिए विशेष ध्यान रखा जा रहा है.

बता दें कि बीते रात दानापुर के निजी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के कारण अस्पताल प्रबंधन ने मरीजों को भर्ती करने से मना कर दिया. वहीं, जो मरीज एक सप्ताह पहले से भर्ती थे उन्हें भी दूसरे अस्पताल में भर्ती होने का निर्देश जारी कर दिए. जिसे लेकर मरीज के परिजनों में अफरातफरी का माहौल हो गया.

ये भी पढ़ेंः कोरोना पर भारी पड़ी मां की ममता! नर्स, डॉक्टर और गार्ड की आंखों से भी छलके आंसू

इधर, इसे लेकर परिजनों ने प्रबंधन पर आरोप लगाया कि इस समय मरीज को लेकर कहां जाए. वहीं, इस मामलें पर जिलाधिकारी चन्द्रशेखर ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि दानापुर के निजी अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी नहीं है और ना ही ऑक्सीजन के कारण किसी की मौत हुई है. 

साथ हीं, उनका कहना है कि पटना जिला के किसी अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी नहीं होगी. वहीं, अब सवाल यह है कि एक ओर जिलाधिकारी हालात पर नियंत्रण की बात कह रहे है और दूसरीं ओर संक्रमण से मरीजो की मौत का आकंड़ा बढ़़ रहा है.