close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार विधान परिषद में कायम रहेगा जेडीयू का दबदबा, बतौर सीएम तीसरी बार नीतीश होंगे विधान परिषद के सदस्य

बिहार विधान परिषद् में जेडीयू पार्टी की संख्या सबसे अधिक है और गुरुवार को 11 निर्वाचित सदस्यों को प्रमाणपत्र मिलने के बाद भी जेडीयू के सदस्यों की संख्या सबसे अधिक होगी. नए कार्यकाल में 75 सदस्यीय सदन में जेडीयू पार्टी के सदस्यों की संख्या 31 होगी. और कार्यकारी सभापति को शामिल किया जाए तो यह संख्या 32 हो जाएगी. 

बिहार विधान परिषद में कायम रहेगा जेडीयू का दबदबा, बतौर सीएम तीसरी बार नीतीश होंगे विधान परिषद के सदस्य
नीतीश कुमार बिहार विधान परिषद में बतौर सीएम तीसरी बार निवार्चित होंगे. (फाइल फोटो)

पटनाः बिहार विधान परिषद् में जेडीयू पार्टी की संख्या सबसे अधिक है और गुरुवार को 11 निर्वाचित सदस्यों को प्रमाणपत्र मिलने के बाद भी जेडीयू के सदस्यों की संख्या सबसे अधिक होगी. नए कार्यकाल में 75 सदस्यीय सदन में जेडीयू पार्टी के सदस्यों की संख्या 31 होगी. और कार्यकारी सभापति को शामिल किया जाए तो यह संख्या 32 हो जाएगी. वहीं, जेडीयू के बाद सदन में दूसरी बड़ी पार्टी 22 सदस्यों के साथ बीजेपी होगी. जबकि बिहार विधान सभा में सबसे अधिक सदस्यों वाली आरजेडी की संख्या विधान परिषद में केवल 9 होगी. सबसे बड़ी बात यह है कि इस बार हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा पार्टी की भी विधान परिषद में एंट्री हो जाएगी. उनके एक सदस्य का निर्वाचन किया गया है. हालांकि यह आरजेडी की ओर से दिया गया है. वहीं, कांग्रेस को सबसे बड़ा धक्का लगने वाला है. क्योंकि हाल ही में उनके 4 सदस्य जेडीयू में शामिल हो गए हैं. ऐसे में उनकी संख्या तीन हो जाएगी.

हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा की तरफ से पार्टी प्रमुख जीतन राम मांझी के बेटे संतोष मांझी को उम्मीदवार बनाया गया. उन्हें आरजेडी ने गठबंधन के तहत अपने एक उम्मीदवार के जगह पर खड़ा किया था. संतोष मांझी अपने पार्टी के एक मात्र विधान परिषद सदस्य होंगे. वहीं, आरजेडी के 9 सदस्य होने से यह साफ है कि सदन में नेता विपक्ष के रूप में राबड़ी देवी को चुना जाना तय है.

लालू के करीबी भोला यादव के खिलाफ कोर्ट ने जारी किया गिरफ्तारी वारंट

बिहार विधान परिषद की 11 सीटों के लिए निर्वाचित होनेवाले सदस्यों को गुरुवार (19 अप्रैल) को प्रमाणपत्र सौंपा जाएगा. 11 सीटों के लिए 11 लोगों ने ही नामांकन कराया है. ऐसे में सभी 11 लोगों का निर्विरोध चुना जाना तय है. हालांकि गुरुवार को नाम वापसी की अंतिम तारीख है. नामांकन वापस लेने के तय समय सीमा पूरी होने के बाद सभी निर्विरोध निर्वाचित सदस्यों को प्रमाणपत्र सौंपा जाएगा.

गयाः जहरीला भोजन खाने के बाद 50 से ज्यादा लोग बीमार, बच्चे और महिलाएं भी शामिल

निर्वाचित होने वाले लोगों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, मंगल पांडेय, राबड़ी देवी, रामचंद्र पूर्वे, संजय पासवान, रामेश्वर महतो, खालिद अनवर, खुर्शीद मोहसिन, संतोष मांझी और प्रेमचंद मिश्र का नाम शामिल है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बतौर सीएम पद पर विधान परिषद सदस्य के रूप में तीसरी बार चुने जाएंगे.

बिहार-झारखंड की खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.