close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IIM के वर्कशॉप में बोले संजय झा- 'नालंदा, गया, राजगीर को साल भर मिलेगा पीने के लिए गंगा का पानी'

सिंचाई संस्थानों के प्रभावी सहयोग से खेती में उत्पादन को बढ़ावा देने संबंधी कार्यशाला का आयोजन अधिवेशन भवन में किया गया. अधिवेशन का उद्घाटन जल संसाधन मंत्री संजय झा ने किया.

IIM के वर्कशॉप में बोले संजय झा- 'नालंदा, गया, राजगीर को साल भर मिलेगा पीने के लिए गंगा का पानी'
पटना में IIM अहमदाबाद ने वर्कशॉप का आयोजन किया.

पटना: दक्षिण एशिया में सिंचाई संस्थानों के प्रभावी सहयोग से खेती में उत्पादन को बढ़ावा देने संबंधी कार्यशाला का आयोजन अधिवेशन भवन में किया गया. अधिवेशन का उद्घाटन बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय झा (Sanjay Jha) ने किया.

इस दौरान जल संसाधन मंत्री संजय झा ने बिहार में चलाए जा रहे जल-जीवन-हरियाली अभियान की चर्चा की और कहा कि इसका बेहतर तरीके से प्रचार किया जाना चाहिए. साथ ही ग्रामीण इलाके में जीविका समूहों की सक्रियता की चर्चा भी मंत्री ने की. उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य पानी की कमी वाले क्षेत्रों, जैसे दक्षिण बिहार के नालंदा, गया, राजगीर में अतिरिक्त पानी को ले जाने का है. हम गंगा का पानी इन इलाकों में ले जाने का प्रयास कर रहे है. इससे इन तीन इलाकों को साल भर गंगा का पानी पीने के लिए मिलेगा.

साथ ही संजय झा ने कहा कि फल्गु नदी में विष्णुपद मंदिर के पास भी हमेशा कम से कम दो फीट पानी उपलब्धता सुनिश्चित करने का हम प्रयास कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि खेती और सिंचाई में महिला समूहों की भूमिका अहम है. साथ ही जिस तरह से वो आर्थिक प्रगति कर रही हैं, वो अद्भुत है. कार्यशाला का आयोजन आईआईएम, अहमदाबाद, अंतरराष्ट्रीय कृषि अनुसंधान संस्थान और जल संसाधन विभाग की ओर से किया गया. पटना के अधिवेशन भवन में आईआईएम अहमदाबाद की तरफ से रविन्द्र शंकर सिंह ने जल संसाधन मंत्री को स्मृति चिन्ह भेंट किया.