close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: आखिरकार खत्म हुआ बाहुबली अनंत सिंह का खेल, हत्या की साजिश में बुरे फंसे विधायक

15 जुलाई को पटना जिले के पंडारक थाना क्षेत्र से स्थानीय पुलिस ने 3 अपराधियों को गिरफ्तार किया. जिनके पास से पुलिस को अत्याधुनिक पिस्टल और कई जिंदा कारतूस बरामद हुए थे.

बिहार: आखिरकार खत्म हुआ बाहुबली अनंत सिंह का खेल, हत्या की साजिश में बुरे फंसे विधायक
ये तय माना जा रहा है कि अनंत सिंह के लिए आगे का सियासी सफर आसान नहीं होगा. (फाइल फोटो)

पटना: नीतीश कुमार से बगावत कर सियासत की अलग राह लेने वाले बिहार के निर्दलीय बाहुबली विधायक अनंत सिंह की मुश्किलें लगातार बढती जा रही हैं. लोकसभा चुनाव में मुंगेर सीट बुरी तरह हारने के बाद अनंत सिंह अब दो लोगों की हत्या की शाजिश में फंसते नजर आ रहे हैं. पुलिस के हाथ अनंत सिंह को लेकर जो साक्ष्य लगे हैं उसके बाद ये तय माना जा रहा है कि अनंत सिंह के लिए आगे का सियासी सफर आसान नहीं होगा. 

जिस बाहुबली विधायक के दबंगई की तूती पूरे बिहार में बोलती थी, नीतीश कुमार से अलग होने के बाद उसके काले साम्राज्य का अंत होता दिखने लगा है. जिस विधायक के दर्जनों अपराध के खिलाफ कोई गवाह नहीं मिलता था आज उसके खिलाफ सबूत चिल्ला चिल्ला कर बोल रहे हैं. नीतीश कुमार के एक वक्त के काफी करीबी रहे मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत सिंह एक मामले में बुरी तरह फंसते नजर आ रहे हैं. जी मीडिया के हाथ दो ऐसे सबूत लगे हैं जो अनंत सिंह को दो लोगों की हत्या की साजिश में सीधे तौर पर शामिल बता रहे हैं. 

 

दरअसल 15 जुलाई को पटना जिले के पंडारक थाना क्षेत्र से स्थानीय पुलिस ने 3 अपराधियों को गिरफ्तार किया. जिनके पास से पुलिस को अत्याधुनिक पिस्टल और कई जिंदा कारतूस बरामद हुए थे. ये युवक पंडारक के ही रहनेवाले भोला सिंह और उसके भाई मुकेश सिंह की हत्या करने पहुंचे थे. लेकिन अपने मिशन में कामयाब होने से पहले ही ये स्थानीय ग्रामीणों के हाथ चढ़ गए. ग्रामीणों ने इनकी जबरदस्त पिटाई कर दी. घटना की सूचना मिलते ही पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और तीनों को हिरासत में ले लिया. 

गिरफ्तार किये तीनों अपराधियों ने खुद को पटना का निवासी बताया है. साथ ही इन अपराधियो का एक वीडियो भी जी मीडिया के हाथ लगा है. जिसमें ये अपराधी इसबात को कबूल रहे हैं कि विधायक अनंत सिंह के कहने पर ही वो भोला सिंह और मुकेश सिंह की हत्या करने पंडारक पहुंचे थे. वीडियो के साथ-साथ विधायक अनंत सिंह और सुपारी किलर के बीच बातचीत के 22 आडियो भी लीक हो चुके हैं. जिसमें विधायक अनंत सिंह साफतौर पर किलर को हत्या की योजना से जुडे मसले पर गाईड करते नजर आ रहे हैं. 

इतना ही नहीं किलर ने अनंत सिंह को ये भी बताया है कि घटना के वक्त उसके पास देशी और विदेशी दोनों दोनों तरह के पिस्टल होंगे. हलांकि अनंत सिंह ने बातचीत में ये भी सलाह दी है कि अगर कोई परेशानी हो तो वो किलर को एके 47 मुहैया करा देंगे. विधायक अनंत सिंह की ओर किलर को ये भी आश्वासन दिया गया कि घटना के बाद भीड़ से बचकर निकलने के लिए उसे रास्ता भी मुहैया कराया जाएगा. 
 
पुलिस को दिए अपने ईकबालिया बयान में अपराधियों ने ये स्वीकार किया कि विधायक अनंत सिंह के ही कहने पर उन्हें हथियार विकास सिंह ने दिए थे. विकास सिंह जहानाबाद का रहनेवाला है लेकिन अनंत सिंह के पटना के एकमाल रोड स्थित सरकारी आवास में ही रहता है. विकास सिंह ने अपराधियों को पंडारक पहुंचाने के लिए अनंत सिंह के करीबी ठेकेदार लल्लू मुखिया को बोला था. लल्लू मुखिया ने अपने भाई रणवीर यादव और चंदन सिंह के साथ इन तीनों को पंडारक पहुंचाया. योजना के मुताबिक हत्या के बाद चंदन सिंह, रणवीर यादव अपने चार पांच साथियों के साथ एके 47 से फायरिंग करते हुए तीनों अपराधियों को घटनास्थल से बाहर निकाल ले जाएंगे. 

आपको बता दें कि भोला सिंह से विधायक अनंत सिंह की लड़ाई पुरानी है. दोनों के बीच वर्चस्व की लडाई चलती रहती है. अनंत सिंह और सुपारी किलर के बीच हुई बातचीत का ऑडियो वायरल होने के बाद अपराधियों के दिए बयान पर मुहर लगती नजर आ रही है. पटना के ग्रामीण एसपी कान्तेय कुमार मिश्रा कहते हैं कि मामले में विधायक अनंत सिंह का नाम सामने आया है. जरुरत पडी तो विधायक से पूछताछ की जाएगी.

इधर पंडारक पुलिस ने अनंत सिंह के वायस टेस्ट के लिए उनके पटना स्थित आवास पर नोटिस चस्पा कर दिया है. अनंत सिंह को एक अगस्त को अपना वायस टेस्ट देने के लिए पटना के पुलिस मुख्यालय में एफएसएल की टीम के सामने हाजिर होना होगा. बताया जा रहा है कि मामला उजागर होने के बाद से ही अनंत सिंह पटना से बाहर हैं.