Bihar: कोरोना में 'बेफिक्र' दिख रहे विधायक, Mask ना होने के सवाल पर दिए दिलचस्प जवाब

Bihar Samachar: BJP विधायक अरुण शंकर की दलील चौकाने वाली रही. अरुण शंकर ने कहा, 'हम किसान है. 10 किलोमीटर पैदल चलते हैं और मेरी गाड़ी में सभी लोगों को कोरोना हुआ लेकिन मुझे नहीं हुआ. मेरा एन्टी बॉडी मजबूत है इसलिए मास्क की जरूरत नहीं.'  

Bihar: कोरोना में 'बेफिक्र' दिख रहे विधायक, Mask ना होने के सवाल पर दिए दिलचस्प जवाब
कोरोना में 'बेफिक्र' दिख रहे बिहार में विधायक. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Patna: देश में कोरोना संक्रमण का दायरा एक बार फिर बढ़ने लगा है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्वास्थ्य विभाग को फिर से कोरोना जांच (Corona Test) का दायरा बढ़ाने का निर्देश दिया है. साथ ही CM ने विधायकों से भी मास्क पहनने की अपील की है. लेकिन, विपक्ष के साथ NDA के विधायकों पर भी CM नीतीश कुमार की अपील का बिलकुल असर नहीं दिख रहा है.

CM की अपील का विधायकों पर असर नहीं
बिहार में कोराना जांच का दायरा एक बार फिर बढ़ाने की तैयारी शुरु हो गई है. CM नीतीश कुमार ने स्वास्थ्य विभाग को कोरोना जांच के लिए विशेष दिशा निर्देश भी दिए हैं. लेकिन, इसके साथ ही साथ सीएम ने बजट सत्र में आनेवाले विधायकों को मास्क पहनने की भी सलाह दी है. मंगलवार को नीतीश कुमार ने खुले सदन में विधायकों से ये अपील की. लेकिन नीतीश कुमार की अपील के बाद भी विधायकों पर कोई असर नहीं दिखा.

ये भी पढ़ें-सदन में CM ने कबूूला- लाख प्रयासों के बाद भी बिहार में नहीं बढ़ा उद्योग, अब करेंगे ऐसा

 

'कोरोना सुविधाभोगी को होता है मेहनकशों को नहीं'
विपक्षी दल के विधायकों की बात छोड़ दीजिए खुद NDA के विधायक भी मास्क लगाने में दिलचस्पी लेते नहीं दिखे. ज्यादातर विधायकों का मास्क उनकी जेब में नजर आया. जब मास्क को लेकर सवाल पूछा गया तो जवाब भी हैरान करनेवाला था. BJP विधायक लाल बाबू से जब उनके मास्क और नीतीश कुमार की सलाह पर सवाल पूछा गया तो वह मुस्कुराने लगे. कोरोना से डर की बात स्वीकार की और मास्क जेब से निकाल कर पहनने लगे. BJP विधायक हरिभूषण ठाकुर ने सवाल सुनकर कहा, 'PM ने गमछा इस्तेमाल के लिए कहा था, इसलिए हम गमछा रखे हैं. कोरोना सुविधाभोगी को होता है हम जैसे मेहनतकशों को नहीं होता. हमने तो इलेक्शन में कोरोना को भी हराया है.'

'मजबूत एंटी बॉडी वाले लोगों को नहीं होता कोरोना'
वहीं, BJP विधायक अरुण शंकर की दलील और भी चौकाने वाली रही. अरुण शंकर ने कहा, 'हम किसान है. 10 किलोमीटर पैदल चलते हैं और मेरी गाड़ी में सभी लोगों को कोरोना हुआ लेकिन मुझे नहीं हुआ. मेरा एंटी बॉडी (Antibody) मजबूत है इसलिए मास्क की जरूरत नहीं.'

'CM सिर्फ सलाह देते हैं'
RJD के विधायक ने तो CM की सलाह पर ही सवाल खडे़ कर दिए. RJD के विधायक ने कहा, 'सीएम सिर्फ सलाह देते हैं, लेकिन सोशल डिस्टेंस (Social Distancing) का सदन में पालन नहीं हो रहा.' वैसे उन्होंने ने भी माना कि मास्क पहनना चाहिए. विधायक जी ने जेब से मास्क निकालकर दिखाया भी और फिर उसे जेब में रख लिया.  RJD MLA डॉ समीम ने कहा, 'सदन में जिस तरह हम बैठ रहे उसमे अगर किसी एक को होता है तो सबको हो जाएगा. मास्क सबको लगाना चाहिए लेकिन, कभी हम नहीं लगा पाते.'

ये भी पढ़ें-तेजस्वी ने नीतीश को टोका, तो CM बोले-अरे सुन लीजिए भाई मेरी बात..मानिए नहीं मानिए ये आपका निर्णय है

 

माननीय कोरोना अपील की उड़ा रहे धज्जियां
वहीं, BJP MLA अरुण सिन्हा ने कहा कि वो मास्क पहनते हैं लेकिन, सांस लेने में दिक्कत हो रही थी. सर्दी हो गई है इसलिए मास्क अभी निकाल दिए हैं. बता दें कि विधान मंडल (Bihar Assembly Budget Session) का बजट सत्र चल रहा है. ये सत्र कोरोना गाइडलाईन  (Corona Guidelines) के मुताबिक चल रहा है. लेकिन, कोरोना गाइडलाईन सिर्फ लिखाई में ही है जमीन पर कहीं कुछ नहीं दिख रहा. न तो मास्क का इस्तेमाल हो रहा है और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन. ऐसे में सवाल उठना है कि देश के दूसरे शहरों में कोरोना का प्रकोप जिस तरह बढ़ रहा है, वैसे में माननीयों की गलती कोई बड़ी समस्या खड़ी कर सकती है.