बिहारः कैबिनेट के फैसले के बाद अब गाड़ी खरीदना होगा महंगा

 राजधानी पटना स्थित सचिवालय संवाद कक्ष में  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में आयोजित कैबिनेट बैठक में कुल 25 एजेंडों पर मुहर लगाई गई. 

बिहारः कैबिनेट के फैसले के बाद अब गाड़ी खरीदना होगा महंगा
बिहार सरकार ने वाहनों की खरीदारी पर टैक्स बढ़ाने का फैसला लिया है. (प्रतीकात्मक फोटो)

पटनाः मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में मंगलवार को कैबिनेट की बैठक हुई. राजधानी पटना स्थित सचिवालय संवाद कक्ष में आयोजित कैबिनेट बैठक में कुल 25 एजेंडों पर मुहर लगाई गई. बैठक में कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की गई. कैबिनेट बैठक के फैसले के अनुसार अब गाड़ी खरीदना महंगा हो सकता है.

बैठक के फैसलों के अनुसार, गाड़ी खरीदना महंगा हो जाएगा. क्यों कि, एक्स शोरूम गाड़ियों पर लगने वाले टैक्स को बढ़ा दिया गया है. बताया जाता है कि एक्स शो रूम प्राइम पर लगने वाले टैक्स को 1 से 5 फीसदी तक बढ़ा दिया गया है. यानी की 1 लाख रुपये तक के दो पहिया वाहनों पर 8 फीसदी टैक्स बढ़ा दी गई है.

वाहनों पर पहले 7 फीसदी टैक्स लगती थी जो अब 8 फीसदी टैक्स तक देना होगा. इसके साथ ही 4 पहिया वाहनों पर लगने वाले 7 फीसदी टैक्स को बढ़ाकर 12 फीसदी कर दिया गया है.

दरअसल सरकार ने मोटरसाइकिल, कार और कमर्शियल वाहनों पर टैक्स उसकी इंजन क्षमता के आधार पर नहीं बल्कि वाहनों के मॉडल के अनुसार लगाने का फैसला लिया है. टैक्स के चार स्लैब बनाए गए हैं. यह 8,9,10 और 12 फीसदी है, जो वाहन खरीदने के वक्त 15 सालों के लिए होगा.

नए नियमों के मुताबिक 1 लाख तक के वाहनों पर 8 फीसदी, 8 लाख तक के वहानों पर 9 फीसदी, 15 लाख तक के वाहनों पर 10 फीसदी और 15 लाख रुपये से अधिक कीमत के वाहनों पर 12 फीसदी टैक्स चुकाना होगा.

वहीं, बस और ट्रक के लिए भी सालाना टैक्स पैसेंजर बैठाने की क्षमता और क्वॉलिटी के आधार पर होगा. एक्स-शो रूम प्राइस में वाहन की कीमत, सेंट्रल जीएसटी, स्टेट जीएसटी, इंटीग्रेटेड जीएसटी और उपकर सभी शामिल होंगे.