अवैध बालू खनन मामले में IPS राकेश दुबे की बढ़ी मुश्किलें, मिली करोड़ों की संपत्ति

कोर्ट के द्वारा वारंट जारी कर राकेश दुबे के ठिकानों में पटना के गांधी पार्क स्थित आवासीय मकान नंबर 119, पटना के फ्लैट संख्या 204, सुदामा पैलेस जलालपुर, अभियंता नगर के अलावे झारखंड के सचिन रेजिडेंसी होटल जसीडीह और उनके गांव जसीडीह के सिमरिया में भी छापेमारी की जा रही है.  

अवैध बालू खनन मामले में IPS राकेश दुबे की बढ़ी मुश्किलें, मिली करोड़ों की संपत्ति
अवैध बालू खनन मामले में IPS राकेश दुबे की बढ़ी मुश्किलें.

Patna: अवैध बालू खनन के मामले में निलंबित SP राकेश दुबे के पटना समेत झारखंड के पैतृक आवास सिमरिया पर आर्थिक अपराध इकाई (Economic Offences Unit) की टीम ने एक साथ छापेमारी की है. दरअसल, आर्थिक अपराध इकाई ने निलंबित तत्कालीन पूर्व एसपी राकेश दुबे पर बालू माफियाओं से सांठगांठ और आय से अधिक संपत्ति को लेकर मामला दर्ज किया था. 

वहीं, मामला कोर्ट में चलने के बाद कोर्ट के द्वारा वारंट जारी कर राकेश दुबे के ठिकानों में पटना के गांधी पार्क स्थित आवासीय मकान नंबर 119, पटना के फ्लैट संख्या 204, सुदामा पैलेस जलालपुर, अभियंता नगर के अलावे झारखंड के सचिन रेजिडेंसी होटल जसीडीह और उनके गांव जसीडीह के सिमरिया में भी छापेमारी की जा रही है. छापेमारी के दौरान डीएसपी, इंस्पेक्टर रैंक के पदाधिकारी के साथ एसटीएफ की टीम भी मौके पर मौजूद रही. 

ये भी पढ़ें- राजीव प्रताप रूडी के सांसद निधि से खरीदी गई एम्बुलेंस से हो रही शराब तस्करी, मुखिया समेत 3 पर FIR

शुरुआत की जांच में करीब दो करोड़ 55 लाख 49 हजार 691 रुपये की आय से अधिक संपत्ति मिली है. इसके अलावा राकेश दुबे पर अपनी पत्नी, स्वजनों, मित्रों व व्यावसायिक सहभागियों के जरिए मनी लांड्रिंग करने के भी प्रमाण सामने आएं हैं. वहीं, बिल्डरों से साठ-गांठ कर कई राज्यों के आधा दर्जन से अधिक कंस्ट्रक्शन कंपनियों में अवैध तरीके से नकद राशि निवेश की गई है. होटल, रेस्तरां, मैरेज हाल व भू-खंडों में भी करोड़ों रुपये के निवेश हुए हैं. अवैध तरीके से कमाए गए करोड़ों रुपये ब्याज का पैसा भी मिला है. टीम अभी भी इन सारी संपत्तियों का आकलन कर रही है

गौरतलब है कि इन दिनों बालू माफियाओं से सांठगांठ करने वाले अधिकारियों के खिलाफ नीतीश सरकार की कार्रवाई लगातार जारी है. इधर, सरकार के इस एक्शन से सरकारी अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है. दरअसल, बालू के कारोबार में ईओयू की खुफिया रिपोर्ट में कई अधिकारियों के सांठगांठ के साक्ष्य मिले थे, जिसके बाद से छापेमारी का सिलसिला लगातार जारी है.

(इनपुट- संजय)