कैमूर में अवैध शराब का जखीरा बरामद, यूपी के रास्ते हो रही डिलीवरी!
X

कैमूर में अवैध शराब का जखीरा बरामद, यूपी के रास्ते हो रही डिलीवरी!

पुलिस ने चेकिंग के दौरान एक ट्रक पकड़ा, जिसमें रखी पेटियां अलग कंपनी की थी और उनपर स्टीकर दूसरी कंपनी का लगा हुआ था. इसपर पुलिस को शक हुआ. वहीं, पुलिस ने पेटियां खोलकर जांच की तो हक्कीबक्की रह गई. सभी पेटियां अवैध शराब से भरी हुई थी. 

कैमूर में अवैध शराब का जखीरा बरामद, यूपी के रास्ते हो रही डिलीवरी!

Kaimur: बिहार में शराब को लेकर हाई अलर्ट है बावजूद इसके शराब तस्करों पर लगाम नहीं लग पा रहा है. कैमूर में पुलिस कार्रवाई के बाद उजागर हुए शराब तस्करी के मामले से इसका अंदाजा लगाया जा सकता है. यहां दुर्गावती और मोहनिया पुलिस ने चेकिंग के दौरान करीब 2529 लीटर अवैध शराब जब्त की है.

2,529 लीटर अवैध शराब जब्त  
बता दें कि शराबबंदी पर मुख्यमंत्री के दिशा-निर्देशों के बाद पुलिस और उत्पाद विभाग चौकन्ना है. पुलिस ने हर नाके और चेकपोस्ट पर चेकिंग बढ़ा रखी है. मोहनिया के समेकीत चेकपोस्ट पर भी पुलिस चेकिंग कर रही थी. इसी दौरान पुलिस और विभाग टीम ने करीब 2,529 लीटर अवैध शराब जब्त की है.

ये भी पढ़ें- कैमूर: सड़क किनारे खड़े ट्रैक्टर से टकराई बाइक, एक की मौत 2 घायल

यूपी के रास्ते शराब की डिलीवरी!
दरअसल, पुलिस ने चेकिंग के दौरान एक ट्रक पकड़ा, जिसमें रखी पेटियां अलग कंपनी की थी और उनपर स्टीकर दूसरी कंपनी का लगा हुआ था. इसपर पुलिस को शक हुआ. वहीं, पुलिस ने पेटियां खोलकर जांच की तो हक्कीबक्की रह गई. सभी पेटियां अवैध शराब से भरी हुई थी. 

ट्रक ड्राइवर खोलेगा राज ?
इधर, ट्रक चालक को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ की जा रही है. आरोपी के पास से 2900 रुपये कैश और एक मोबाइल बरामद किया है. जानकारी के मुताबिक, यूपी के रास्ते बिहार में शराब की डिलीवरी की जा रही है.

कार में बनाया तहखाना
दूसरी तरफ दुर्गावती थाना पुलिस ने चेकिंग के दौरान एक कार को पकड़ा. चार पहिया वाहन की डिग्गी में आरोपियों ने तहखाना बनाकर शराब की बोतलें छिपा रखी थी. पुलिस ने कार से लगभग 162 लीटर अवैध शराब जब्त की. साथ ही तीन लोगों को भी पुलिस ने धर दबोचा.

ये भी पढ़ें- बिहार में 43 अधिकारियों पर लटकी कार्रवाई की तलवार! जानिए क्या है पूरा मामला

समीक्षा के बाद बढ़ी सख्ती 
गौरतलब है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने 16 नवंबर को समीक्षा बैठक की थी. बैठक के बाद उन्होंने सख्त रुख अपनाते हुए कई दिशा-निर्देश जारी किए थे, जिनका अनुपालन नहीं करने पर अधिकारियों, थानाध्यक्षों पर भी गाज गिर सकती है.

(इनपुट- मुकुल)

Trending news