बिहार रेजीमेंट के शौर्य और शहादत को देश का सलाम, महावीर चक्र और शौर्य चक्र से सम्मानित हुए रणबांकुरे
X

बिहार रेजीमेंट के शौर्य और शहादत को देश का सलाम, महावीर चक्र और शौर्य चक्र से सम्मानित हुए रणबांकुरे

शहीद (Martyr) हुए कर्नल संतोष बाबू (Colonel Santosh Babu) को महावीर चक्र (Mahvir Chakra) से सम्मानित किया गया है. प्रेसिडेंट रामनाथ कोविन्द (President Ramnath Kovind) ने मंगलवार को संतोष बाबू (Santosh Babu) की मां और पत्नी को वीरता पुरस्कार सौंपा.

बिहार रेजीमेंट के शौर्य और शहादत को देश का सलाम, महावीर चक्र और शौर्य चक्र से सम्मानित हुए रणबांकुरे

Patna: लद्दाख (Ladakh) में गलवान घाटी (Galvan Ghati) में चीनी सैनिकों (Chinese Soldiers) के साथ हिंसक झड़प में शहीद (Martyr) हुए कर्नल संतोष बाबू (Colonel Santosh Babu) को महावीर चक्र (Mahvir Chakra) से सम्मानित किया गया है. प्रेसिडेंट रामनाथ कोविन्द (President Ramnath Kovind) ने मंगलवार को संतोष बाबू (Santosh Babu) की मां और पत्नी को वीरता पुरस्कार सौंपा. 

दुश्मनों का किया डटकर सामना 
वर्ष 2020 में भारत-चीन (India-China) की सेनाएं आमने-सामने आ गई थीं. कर्नल संतोष बाबू ने भारतीय सेना (Indian Army) का नेतृत्व करते हुए बड़ी बहादुरी से दुश्मनों का सामना किया था. कर्नल संतोष बाबू ने चीनी सैनिकों का डटकर सामना किया और अपने प्राण न्योछावर कर दिए. 

देश सेवा की सच्ची भावना को रखा ऊपर  
सेना के प्रशस्ति पत्र में कहा गया है कि 15 जून, 2020 को पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में ऑपरेशन स्नो-लेपर्ड (Snow Leopard) के दौरान बिहार रेजीमेंट (Bihar Regiment 16) के कर्नल बिकुमाला संतोष बाबू को कमांडिंग ऑफिसर (Commanding Officer) के तौर पर आब्जर्वेशन-पोस्ट स्थापित करने की कमान सौंपी गई थी. दुश्मन की हिंसक और आक्रामक कार्रवाई के सामने उन्होंने स्वयं की परवाह न करते हुए सेवा की सच्ची भावना को ऊपर रखा. 

घायल होने के बावजूद करते रहे नेतृत्व 
दुश्मन की भारतीय सैनिकों (Indian soldiers) को पीछे धकेलने की कोशिश का कर्नल संतोष बाबू (Santosh Babu) लगातार विरोध करते रहे. गंभीर रूप से घायल होने के बावजूद वे युद्ध (War) में अपनी आखिरी सांस तक नेतृत्व करते रहे. 

महावीर चक्र दूसरा सबसे बड़ा वीरता पुरस्कार 
महावीर चक्र (mahavir Chakra) भारत का दूसरा सबसे बड़ा वीरता पुरस्कार है. यह सम्मान सैनिकों को असाधारण वीरता या बलिदान के लिए दिया जाता है. 

बिहार रेजीमेंट के इस सिपाही को शौर्य चक्र 
वहीं, बिहार रेजीमेंट (Bihar Regiment) की 8वीं बटालियन के सिपाही कर्मदेव उरांव (Sepoy Karmdev Oraon) को शौर्य चक्र (Shaurya Chakra) से सम्मानित किया गया है.

Trending news