बिहार के किसानों के लिए बड़ी खबर, इस दिन से शुरू हो रही है धान की खरीदी
X

बिहार के किसानों के लिए बड़ी खबर, इस दिन से शुरू हो रही है धान की खरीदी

 बिहार में अगले महीने से किसान अपना धान न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे. इस बार किसान तीन चरणों में अपनी धान बेच सकेंगे.  कोसी और पूर्णिया प्रमंडल के सभी जिलों में धान की खरीद एक नवंबर से प्रारंभ हो जाएगी. 

बिहार के किसानों के लिए बड़ी खबर, इस दिन से शुरू हो रही है धान की खरीदी

Patna: बिहार में अगले महीने से किसान अपना धान न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे. इस बार किसान तीन चरणों में अपनी धान बेच सकेंगे.  कोसी और पूर्णिया प्रमंडल के सभी जिलों में धान की खरीद एक नवंबर से प्रारंभ हो जाएगी.  बिहार सरकार (Bihar Government) ने राज्य के किसानों से 1 नवंबर से खरीदी शुरू करने का फैसला लिया है, जिसके लिए प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.  किसान धान अधिप्रप्ति के समय अपनी पसंद के किसी भी पैक्स या व्यापार मंडल पर धान बेच सकते हैं. 

इस वर्ष सामन्य धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1940 रुपये प्रति क्विंटल है, जबकि ग्रेड-ए धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1960 रुपये प्रति क्विंटल है.  धान की खरीददारी को लेकर इस बार विशेष निगरानी रखी जाएगी.  एक अधिकारी ने बताया कि खरीद केंद्रों पर किसी भी प्रकार की अनियमितता को रोकने और गुणवत्ता की जांच के लिए सहकारिता और खाद्य विभाग के साथ जिला प्रशासन को भी निर्देश दिया गया है. 

राज्य में इस बार 1 नवंबर से 31 जनवरी तक धान की खरीदी की जाएगी.  एक नवंबर से कोसी और पूर्णिया प्रमंडल में धान की खरीदी प्रारंभ होगी जबकि तिरहुत, दरभंगा और सारण प्रमंडल के जिलों 10 नवंबर से धान की खरीद प्रारंभ होगी.  शेष जिलों में 15 नवंबर से किसान अपनी धान बेच सकेंगे. 

बिहार सरकार का मानना है कि एक नवंबर तक राज्य के कई हिस्सों में धान पूरी तरह तैयार नहीं हो पाते हैं.  इसके अलावे नवंबर और दिसंबर महीने तक नमी भी अधिक होती है, जिसके कारण इस बार तीन चरणों में धान की खरीद का निर्णय लिया गया है. 

ये भी पढ़ें: लालू के बिहार वापसी को लेकर तेजस्वी यादव ने दिया अपडेट, उपचुनाव में प्रचार को लेकर भी कही ये बड़ी बात

बिहार में इस साल 45 लाख टन धान की खरीद का लक्ष्य रखा गया.  विभाग के अधिकारी के मुताबिक इस बार धान में 17 प्रतिशत तक नमी को स्वीकार्य किया जाएगा.  गुणवत्ता की जांच के लिए दो टीमें बनाई जाएंगी जिसमें केंद्र और राज्य सरकार के प्रतिनिधि के अलावे एफसरआई के प्रतिनिधि भी होंगे. 

(इनपुट: आईएएनएस) 

 

Trending news