तेजप्रताप के इस कदम से मुश्किल में लालू परिवार, मां राबड़ी देवी की बात को भी किया 'अनसुना'!
X

तेजप्रताप के इस कदम से मुश्किल में लालू परिवार, मां राबड़ी देवी की बात को भी किया 'अनसुना'!

तेजप्रताप के बागी रूख को देखते हुए पहले से ही कयास लगाए जा रहे थे कि वो कुशेश्वरस्थान में कांग्रेस के पक्ष में प्रचार करेंगे. इस बात को बल तब और मिल गया था जब बीते दिनों तेजप्रताप और बिहार कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. अशोक कुमार की मुलाकात हुई थी.

तेजप्रताप के इस कदम से मुश्किल में लालू परिवार, मां राबड़ी देवी की बात को भी किया 'अनसुना'!

Patna: राजद सुप्रीमो लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव के तेवर नरम पड़ने का नाम नहीं ले रहे हैं. इस बीच, तेजप्रताप यादव के एक और कदम ने राजद की मुश्किलें बढ़ा दी है. तेजप्रताप यादव की तरफ से कहा गया है कि राजद नेता कुशेश्वरस्थान में कांग्रेस प्रत्याशी के लिए प्रचार करेंगे. जबकि तारापुर में वो आरजेडी उम्मीदवार को जिताने की अपील करेंगे.

छात्र जनशक्ति परिषद ने किया पोस्ट
दरअसल, छात्र जनशक्ति परिषद बिहार की तरफ से शनिवार को फेसबुक पर एक पोस्ट किया गया. इसमें छात्र जनशक्ति परिषद का लेटर जारी करते हुए लिखा गया, 'छात्र जनशक्ति परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) बिहार उपचुनाव (Bihar Byeletion 2021) में तारापुर में राजद के पक्ष में प्रचार करेंगे और कुशेश्वरस्थान में कांग्रेस प्रत्याशी के लिए प्रचार करेंगे.' 

तेजप्रताप और कांग्रेस नेता की हुई थी मुलाकात
बता दें कि तेजप्रताप के बागी रूख को देखते हुए पहले से ही कयास लगाए जा रहे थे कि वो कुशेश्वरस्थान में कांग्रेस के पक्ष में प्रचार करेंगे. इस बात को बल तब और मिला जब बीते दिनों तेजप्रताप और बिहार कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. अशोक कुमार की मुलाकात हुई थी. मुलाकात के बाद से ही कयासों के बाजार गर्म हैं. 

कांग्रेस खुश, राजद परेशान!
वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस ने कुशेश्वरस्थान से अशोक कुमार के बेटे अतिरेक कुमार को ही उम्मीदवार बनाया है. ऐसे में तेजप्रताप के ऐलान से जहां कांग्रेस खुश हैं तो वहीं राजद की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं.

2 सीटों पर होने हैं उपचुनाव
गौरतलब है कि 30 अक्टूबर को बिहार की दो विधानसभा सीट तारापुर और कुशेश्वरस्थान में उपचुनाव होना है. चुनाव से पहले महागठबंधन का विवाद सुलझने का नाम नहीं ले रहा है. कांग्रेस और राजद ने जहां दोनों सीटों पर अपने अलग-अलग प्रत्याशी उतारे हैं, तो वहीं तेजप्रताप यादव के बागी तेवर से राजद परेशान है. 

ये भी पढ़ें-रोहिणी की इस बात से RJD कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर! पिता लालू यादव को लेकर दिया बड़ा अपडेट

स्टार प्रचारकों की लिस्ट से नाम गायब
तेजप्रताप लगातार पार्टी के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं, जिससे साफ पता चला रहा है कि लालू परिवार में सबकुछ ठीक नहीं है. राजद की तरफ से जारी स्टार प्रचारकों की सूची में भी तेजप्रताप का नाम नहीं था, तो पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी (Shivanand Tiwari) ने बीते दिनों ये कह कर सनसनी मचा दी थी कि तेजप्रताप अब राजद में नहीं है और उन्होंने अपना अलग दल बना लिया है. 

मां राबड़ी ने बेटे को समझाया था
विवाद को गहराता देख लालू यादव (Lalu Yadav) की पत्नी राबड़ी देवी (Rabri Devi) अपने बेटे तेजप्रताप को मनाने खुद दिल्ली से पटना आई थी. यहां दोनों के बीच लंबी बातचीत हुई, जिसके बाद से तेजप्रताप के तेवर कुछ नरम पड़ने लगे थे और उम्मीद जताई जा रही थी कि शायद अब विवाद खत्म हो गया है. लेकिन छात्र जनशक्ति परिषद के ताजा ऐलान ने एक बार राजद की परेशानी बढ़ा दी है.

ये भी देखे

Trending news