close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

श्याम रजक के बयान पर जेडीयू-बीजेपी आमने सामने, 'बीजेपी नेता ने बताया बेवकूफ'

जेडीयू श्याम रजक ने बीजेपी और कांग्रेस दोनो पर इस पर राजनीति करने को लेकर निशाना साधा है. वहीं, बीजेपी नेता निखिल आनंद ने श्याम रजक के बयान पर कहा है कि वह बेवकूफ हैं. 

श्याम रजक के बयान पर जेडीयू-बीजेपी आमने सामने, 'बीजेपी नेता ने बताया बेवकूफ'
निखिल आनंद ने श्याम रजक के बयान को बेवकूफ बताया है.

पटनाः जम्मू कश्मीर से धारा 370 को हटाने के बाद देश में सियासत तेज है. वहीं, इसका विरोध कर रही जेडीयू का कहना है कि बीजेपी और कांग्रेस बेवजह इस पर धर्म की राजनीति कर रही है. क्यों कि कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा है कि बीजेपी ने मुस्लिम बहुल होने की वजह से जम्मू कश्मीर में यह फैसला लिया है.

जेडीयू श्याम रजक ने बीजेपी और कांग्रेस दोनो पर इस पर राजनीति करने को लेकर निशाना साधा है. वहीं, बीजेपी नेता निखिल आनंद ने श्याम रजक के बयान पर कहा है कि वह बेवकूफ हैं. उन्होंने कहा कि कोई बेवकुफ नेता ही बीजेपी और कांग्रेस की तुलना कर सकता है. बीजेपी और कांग्रेस का कोई तालमेल ही नहीं है.

उन्होंने कहा कि श्याम रजक स्थानीय विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर बयान दे रहे हैं. जबकि बीजेपी ने धारा 370 को हटाकर एक एतिहासिक काम किया है.

दरअसल, जेडीयू के नेता श्याम रजक जो धारा 370 को खत्म करने वाले कानून का जमकर विरोध किया था. उनका कहना है कि वह आज भी इसका विरोध करते हैं. श्याम रजक ने धारा 370 को हटाने के पर कहा था कि यह देश के लिए काला दिन है. वह इसका विरोध करते हैं और इसका कभी समर्थन नहीं करेंगे.

श्याम रजक ने कहा कि वह अपने बयान पर आज भी कायम हैं. वह आज भी इसका विरोध करते हैं और आगे भी विरोध दर्ज करते रहेंगे. लेकिन देश में जब कानून बन गया है तो अब इस पर किसी तरह की टिप्पणी का कोई मतलब नहीं है. कानून का विरोध किया जाता है जो मैंने किया और सर्मथन से कानून बनता है जो समर्थन के बाद कानून बन चुका है. इसलिए कानून का सम्मान करना चाहिए.

उन्होंने कहा कि, कानून बनने के बाद इसका सम्मान करने के बजाए बीजेपी और कांग्रेस इस पर राजनीति कर रहे हैं. दोनों ही देश हिंदू-मुस्लिम की राजनीति कर देश का सत्यानाश कर रहे हैं. यह देश के विकास के मुद्दे पर राजनीति करने के बजाए वोट बैंक की राजनीति कर रहे हैं. इन्हें यह नहीं समझ में आ रहा है कि जब दिल टूटता है तो देश टूटता है.