close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुपर-30 फिल्म मामले में सुशील मोदी बोले, 'फिल्म नहीं देखता तो कलाकारों का अपमान होता'

सुशील मोदी ने कहा कि एक साथ कई काम किए जा सकते हैं. बिहार में बाढ़ के लिए राहत का काम किया जा रहा है. 

सुपर-30 फिल्म मामले में सुशील मोदी बोले, 'फिल्म नहीं देखता तो कलाकारों का अपमान होता'
सुशील मोदी ने कहा एक हफ्ते में सुपर-30 फिल्म दो बार देखी. (फोटो साभारः ANI)

नई दिल्लीः बिहार में सुपर-30 फिल्म को लेकर जोर शोर से सियासत हो रही है. इस फिल्म के प्रमोशन के लिए खुद बिहार सरकार के द्वारा कवायद की जा रही है. लेकिन इस कवायद के बीच बीजेपी के लिए यह फिल्म सियासती हड्डी बन गई है. बीजेपी के फिल्म प्रमोशन और फिल्म को देखने को लेकर विपक्ष लगातार निशाना साध रहा है और इसे बाढ़ पीड़ितों के साथ संवेदनहीनता से जोड़ रहा है. जबकि बीजेपी नेताओं के बयान पर यह बवाल और भी बढ़ गया है.

बीजेपी नेताओं द्वारा पटना के एक मल्टीप्लेक्स में सुपर-30 फिल्म देखने का मामला तुल पकड़ता जा रहा है. फिल्म को लेकर आरजेडी ने सुशील मोदी पर भी निशाना साधा है. चुकि, सुशील मोदी इस फिल्म के कलाकारों से खुद मिलकर हौसला अफजाई की थी. और फिल्म देखने गए थे. जिस पर आरजेडी ने तंज कसते हुए कहा है कि  बिहार में बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है और सुशील मोदी फिल्म देखने में मस्त हैं.

आरजेडी के इस बयान के बाद बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बयान देते हुए कहा है कि मैंने एक हफ्ते में इस फिल्म को दो बार देखी है. और रही बात बिहार में बाढ़ की तो उस पर भी काम किया जा रहा है. राहत बचाव का कार्य लागातार जारी है.

सुशील मोदी ने कहा कि एक साथ कई काम किए जा सकते हैं. बिहार में बाढ़ के लिए राहत का काम किया जा रहा है. और बिहार के ऊपर कोई फिल्म बनी है और जो फिल्म प्रदेश का गौरव हो तो उस फिल्म को अगर नहीं देखा जाए तो उस फिल्म और कालाकारों का अपमान होगा.

गौरतलब है कि, सुपर-30 फिल्म के प्रमोशन के लिए फिल्म के कलाकार ऋतिक रोशन बिहार आए और सुशील मोदी से भी मुलाकात की थी. इसके बाद इस फिल्म को बीजेपी नेताओं ने एक साथ देखा था. वहीं, फिल्म देखने के बाद बीजेपी नेताओं ने बयान देते हुए कहा था कि बिहार में बाढ़ है तो क्या खाना पीना छोड़ दें. बाढ़ के लिए काम किया जा रहा है.

इस बयान के बाद बीजेपी नेताओं की आलोचना शुरू हो गई. विपक्ष ने इसे संवेदनहीनता करार देते हुए मंत्रियों से इस्तीफा मांगा था. साथ ही जेडीयू के नेताओं ने भी बीजेपी नेताओं को नसीहत दी थी कि वह ऐसा कोई काम नहीं करें.