बिहार: BJP नेता ने मांझी को बताया मौकापरस्त, कहा- 'पूर्व CM की नीयत साफ नहीं'

 बीजेपी नेता जीवेश मिश्रा ने एचएएम चीफ को मौकापरस्त बताया और कहा मांझी किसी के साथ नहीं हैं. मौका मिलेगा तो बीजेपी के साथ भी आ जाएंगे.

बिहार: BJP नेता ने मांझी को बताया मौकापरस्त, कहा- 'पूर्व CM की नीयत साफ नहीं'
हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के अध्यक्ष हैं जीतन राम मांझी. (फाइल फोटो)

पटना: भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (HAM) के मुखिया जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) पर निशाना साधा है. बीजेपी विधायक जीवेश मिश्रा ने दावा किया है कि जेल में बंद आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव के दबाव में जीतन राम मांझी किशनगंज में एआईएमआईएम (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi)  की सभा में शामिल होने के बजाए रांची में हेमंत सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह में गए.

 बीजेपी नेता जीवेश मिश्रा ने एचएएम चीफ को मौकापरस्त बताया और कहा मांझी किसी के साथ नहीं हैं. उन्होंने कहा कि मांझी मौका के अनुसार काम करते हैं. मौका मिलेगा तो बीजेपी के साथ भी आ जाएंगे. जीवेश मिश्रा ने कहा कि मांझी सभी दलों पर प्रेशर बनाकर अपने लिए चुनाव में सीट सुरक्षित करना चाहते हैं. वह दलितों और मुसलमानों को धोखा दे चुके हैं. उनकी नीयत साफ नहीं है. इसके साथ ही बीजेपी नेता ने कहा कि मांझी सब को ठगने का काम कर रहे हैं और महागठबंधन के सभी दल इस बात को समझ रहे हैं. 
 
वहीं, एचएएम नेताओ का भी कहना है की निश्चित तौर पर किशनगंज में ओवैसी के कार्यक्रम में मांझी को शामिल होने था, लेकिन ऐन वक्त पर कार्यक्रम में बदलाव किया गया. पार्टी के प्रवक्ता विजय यादव की माने तो हेमंत सोरेन का फोन आया और रांची जाने के लिए लालू यादव, तेजस्वी यादव के साथ महागठबंधन का दबाव था, इसलिए जीतन राम मांझी रांची गए. 

इधर, आरजेडी के विधायक विजय प्रकाश ने कहा कि जीतन राम माझी सभी वर्गों के नेता हैं. वह सभी को साथ लेकर चलते हैं. जब लालू यादव के साथ हैं तो ओवैसी मांझी के लिए छोटी चीज हैं. 

विजय प्रकाश ने कहा कि असली रहनुमाई करने वाले लालू यादव हैं. उन्होंने कहा कि लालू यादव ने फोन नहीं किया है क्योंकि वह जेल में है. वहीं, जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि जीतन राम मांझी को कोई भी बरगला सकता है और कोई भी इस्तेमाल कर सकता है. क्योंकि उनकी महत्वाकांक्षा बेलगाम है. जहां उनको कुछ दिखता है उस तरफ हो लेते हैं. उन्होंने कहा कि मांझी ऐसे बयानों के जरिए चर्चा में रहते हैं. बोलते कुछ और हैं और करते कुछ और हैं.