close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रांची: 'झारखंड अभियान' के नाम से BJP बनाएगी संकल्प पत्र, तय करेगी 5 सालों का एजेंडा

झारखंड बीजेपी घोषणापत्र समिति 19 तारीख से 25 तारीख तक सभी 5 प्रमंडलों में जा कर लोगों से घोषणा पत्र को लेकर सुझाव आमंत्रित करेगी, इसके अलावे सोशल मीडिया, कमल दूत, मिस्ड कॉल और नए वेबसाइट के जरिये भी लोगों से सुझाव मांगेगी.

रांची: 'झारखंड अभियान' के नाम से BJP बनाएगी संकल्प पत्र, तय करेगी 5 सालों का एजेंडा
बीजेपी भी अपने घोषणा पत्र का नया झारखंड अभियान नाम दिया है.

चंदन, रांची: झारखंड में बीजेपी विधानसभा चुनाव को साधने के लिए नए झारखंड अभियान की शुरुआत कर रही है. झारखंड बीजेपी घोषणा पत्र समिति, इस अभियान के जरिए मंडल स्तर तक जाएगी और लोगों के सुझाव से संकल्प पत्र तैयार करेगी. बीजेपी अपने इस नए झारखंड अभियान को अब तक का सबसे बड़ा अभियान बता रही है, जो अगले 5 साल का एजेंडा तय करेगा जो झारखंड के लोगों का भविष्य बताया.

झारखंड में विधानसभा चुनाव की तैयारी में एक तरफ निर्वाचन आयोग जुटा है तो दूसरी तरफ बीजेपी भी अपने घोषणा पत्र का बनाने में जुट गई है, जिसे नया झारखंड अभियान नाम दिया गया है. झारखंड बीजेपी घोषणापत्र समिति 19 तारीख से 25 तारीख तक सभी 5 प्रमंडलों में जा कर लोगों से घोषणा पत्र को लेकर सुझाव आमंत्रित करेगी, इसके अलावे सोशल मीडिया, कमल दूत, मिस्ड कॉल और नए वेबसाइट के जरिये भी लोगों से सुझाव मांगेगी.

 

लोगों के सुझाव के आधार पर ही अगले 5 साल का एजेंडा तय करने का दावा कर रही है. एक तरफ मुख्यमंत्री से लेकर बीजेपी का संगठन अपने अलग अलग विंग के जरिए जनता के बीच है, तो बीजेपी घोषणा पत्र समिति भी अपने विशेष बॉक्स को लेकर जनता से घोषणा पत्र का सुझाव मांग रही है. 

दूसरी तरफ बदलाव रैली की तैयारी में जुटा जेएमएम, बीजेपी के घोषणा पत्र के बहाने बीजेपी पर हमलावर है. जेएमएम महासचिव की मानें तो निष्पक्ष तरीके  से अगर बीजेपी जन सुझाव को संग्रह करेगी तो उन्हें एक ही सुझाव मिलेगा  आप झारखंड छोड़कर कब  जा रहे हैं 

झारखंड विधानसभा चुनाव के आगाज से पहले ही, सभी दल सत्ता पर काबिज होने के लिए रणनीति बनाने में जुट गई है. झारखंड बीजेपी भी चुनावी गतिविधियों के साथ ... अपने घोषणा पत्र को बनाने में जुट गई है, तो विपक्ष बीजेपी के घोषणा पत्र के बहाने भी हमलावर है.