close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मोतिहारी में खुलेआम हो रही है खाद की कालाबजारी, 100 रुपए अधिक दाम पर मिलता यूरिया

सरकार की इतनी चुस्त व्यवस्था के बीच विक्रेता तय कीमत से 100 रुपए अधिक दाम पर खाद बेच रहे हैं. इसकी तहकीकात करने के लिए जी मीडिया की टीम किसान बनकर दुकान पर पहुंची. 

मोतिहारी में खुलेआम हो रही है खाद की कालाबजारी, 100 रुपए अधिक दाम पर मिलता यूरिया
मोतिहारी में जारी है खाद की कालाबजारी.

पंकज कुमार, मोतिहारी: बिहार के मोतिहारी (Motihari) में लाइसेंसधारी उर्वरक विक्रेता ही खुलेआम अपनी दुकान से खाद (Fertiliser) की कालाबाजारी कर रहे हैं. इतना ही नहीं दुकानदार का यह भी दावा है कि कहीं भी जाइए कीमत 100 रुपया ज्यादा देना ही पड़ेगा. किसानों से तय मुल्य से 100 रुपए अधिक वसूलने का सिलसिला निरंतर जारी है.

सरकार ने प्रत्येक उर्वरक विक्रेता को पॉश मशीन के माध्यम से प्रत्येक किसान के आधार कार्ड के साथ-साथ बॉयोमेट्रिक मशीन पर अंगूठे के निशान के बाद ही खाद बेचने का नियम बना रखा है. लेकिन इसके बावजूद कालाबजारी जारी है.

सरकार की इतनी चुस्त व्यवस्था के बीच विक्रेता तय कीमत से 100 रुपए अधिक दाम पर खाद बेच रहे हैं. इसकी तहकीकात करने के लिए जी मीडिया की टीम किसान बनकर दुकान पर पहुंची. दुकानदार ने तय कीमत 100 रुपए अधिक मांगे. इतना ही नहीं. वह इतना तक कहने लगा कि अगर आपको 266 रुपए में मिल जाए तो ले लीजिएगा और मुझे भी दिला दीजिएगा. दुकानदार ने तो यहां तक कहा कि अगर 300 से 325 रुपए में भी आप दिला देंगे तो मैं खरीद लूंगा.

नियम भले है तमाम बने हों, लेकिन मोतिहारी में हकीकत कुछ और ही है. ऐसे में सलवाल उठता है कि तमाम व्यवस्था के बीच आखिर कैसे खुलेआम मोतिहारी में वैध दुकानों से अवैध कारोबार चल रहा है? कैसे मोतिहारी के उर्वरक विक्रेता खुलेआम तय कीमत से ज्यादा पैसे किसानों से ले रहे हैं?