झारखंड: अंगरक्षक नियुक्ति प्रक्रिया होगी सख्त, अवैध शराब के अड्डे मिले तो नपेंगे अधिकारी: DGP

डीजीपी ने कहा कि, अलग-अलग सरकारी एजेंसी जांच कर खतरे के बारे में बताएगी, उन्हें ही, अंगरक्षक मिलेगा. अब आभूषण के लिए अंगरक्षक नहीं मिलेगा.

झारखंड: अंगरक्षक नियुक्ति प्रक्रिया होगी सख्त, अवैध शराब के अड्डे मिले तो नपेंगे अधिकारी: DGP
झारखंड: अंगरक्षक नियुक्ति की प्रक्रिया होगी सख्त, अवैध शराब के अड्डे मिले तो नपेंगे अधिकारी: DGP. (फाइल फोटो)

रांची: अंगरक्षकों की नियुक्ति को लेकर झारखंड के डीजीपी एमवी राव ने कहा कि, यह फैशन हो गया था. लॉकडाउन (Lockdown) में सभी अंगरक्षक वापस लिए गए हैं, पर अब आगे अंगरक्षक की नियुक्ति के नियम और सख्त कठिन होंगे, केवल जहां सच में खतरा है. उन्हें ही अंगरक्षक मिलेगा.

डीजीपी ने कहा कि, अलग-अलग सरकारी एजेंसी जांच कर खतरे के बारे में बताएगी, उन्हें ही, अंगरक्षक मिलेगा. अब आभूषण के लिए अंगरक्षक नहीं मिलेगा. वहीं, कानून-व्यवस्था को लेकर डीजीपी ने कहा कि, झारखंड पुलिस कई अभियान चला रही है. अब अवैध शराब और जुआ के अड्डे जो चोरी छुपे इधर-उधर चल रहे हैं, उनपर नकेल कसेगें.

एमवी राव ने कहा कि, अब राज्य में बहुत से लोग जो बिना काम के आए हैं, वो वहां जाएगें. अच्छे-अच्छे लोग किसी क्रिमिनल के सम्पर्क में आएगें तो, वो भी क्रिमिनल एक्टिविटी में शामिल होने की संभावना बढ़ जाती है. इसलिए अभी राज्य भर में जुआ और अवैध शराब के अड्डे पर लगातार छापेमरी चलेगी.

पुलिस महानिदेशक ने कहा कि, स्पष्ट निर्देश है टीओपी और थाने लेवल पर लोगों को इसकी जानकारी रखना होगा कि, कहां-कहां अड्डा है. खास कर थाना प्रभारी की जवाबदेही होगी, उनके क्षेत्र में अवैध शराब के अड्डे, जुआ के अड्डे पाए जाएगें तो उन पर कार्रवाई होगी.