close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पर्यावरण की रक्षा के लिए बोकारो के DC की अनूठी पहल, साइकिल से पहुंचे दफ्तर

 डीसी मुकेश कुमार सिंह ने आम जनता से भी हफ्ते में एक दिन साइकिल चलाने की अपील की है. उन्होंने कहा कि ऐसा करने से आसपास का वातावरण तो शुद्ध होगा ही, साथ ही बीमारियों से भी बचाव होगा.

पर्यावरण की रक्षा के लिए बोकारो के DC की अनूठी पहल, साइकिल से पहुंचे दफ्तर
बोकारो डीसी ने की सप्ताह में एक दिन साइकिल चलाने की अपील.

मृत्युंजय, बोकारो : झारखंड के बोकारो (Bokaro) के डीसी मुकेश कुमार सिंह ने एक ऐसी पहल शुरू की है जो कि पर्यावरण की रक्षा करेगा, सरकारी खजाने पर बोझ को कम करेगा और आपको डॉक्टर से दूर रखेगा. इसके तहत हफ्ते में एक दिन घर से अपने दफ्तर साइकिल (Cycle) से या फिर पैदल आने की अपील के साथ डीसी ने अभियान की शुरूआत की है. इस कवायद का नाम दिया गया है 'मुस्कुराइए आप बोकारो में हैं'. इस पहल का ऐसा असर रहा कि सरकारी वाहनों से पटे रहनेवाले समाहरणालय में सिर्फ साइकिलें ही नजर आयीं. 

मुस्कुराने के लिए साइकिल का उपयोग कीजिये, यह सोच है बोकारो के डीसी की है. डीसी मुकेश कुमार सिंह ने आम जनता से भी हफ्ते में एक दिन साइकिल चलाने की अपील की है. उन्होंने कहा कि ऐसा करने से आसपास का वातावरण तो शुद्ध होगा ही, साथ ही बीमारियों से भी बचाव होगा.

उन्होंने इस अनूठे अभियान की शुरूआत अपने निवास से की और साइकिल चलाकर बोकारो समाहरणालय पहुंचे. अभियान के श्रीगणेश के लिए बोकारो के डीसी आवास पर अधिकारियों की भीड़ जुटी, कुछ नई साइकिलें लाई गई और कुछ पुरानी साइकिलों को भी इकट्ठा किया. साहबों का जुटान हुआ और एक इवेंट की तरह चल पड़ा अभियान. कई छोटे और बड़े अधिकारी अभियान का हिस्सा बने और आम लोगों के बीच खास संदेश छोड़ती हुई यह साइकिल यात्रा जिला समाहरणालय में खत्म हुई. साइकिल से आए साहब अपने -अपने दफ्तर में चले गए. 

डीसी से जब इस साइकिल यात्रा के बारे में पूछा गया तो, उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा, 'आप मुस्कुराते रहिए, क्योंकि आप बोकारो में हैं.' डीसी की इस पहल ने बोकारो स्टील प्लांट प्रबंधन को भी प्रेरित किया है. प्रबंधन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने इस पहल से प्रभावित होकर अपने प्लांट के लिए भी ऐसा करने की सलाह जारी की है. 

अभियान ने बोकारो में रहनेवालों के लिए मुस्कुराने का एक बहाना दिया है. इस मुस्कुराहट के पीछे एक बड़ा मकसद बोकारो से इको फ्रेंडली वातावरण बनाने की राष्ट्रव्यापी बयार बहाने का है.

-- Meena Bisht, News Desk