लड़की ने लगाया छेड़छाड़ का आरोप तो छात्र ने काट ली हाथ की नस

विद्यालय के प्राचार्य मृत्यंजंय सहाय ने छात्र शिवम को अपने कार्यालय बुलाकर फटकार लगायी. इतना ही नहीं, अन्य शिक्षकों ने भी छात्र द्वारा पर आए दिन स्कूल की छात्राओं और शिक्षिकाओं के साथ बदसलूकी का आरोप लगाया.

लड़की ने लगाया छेड़छाड़ का आरोप तो छात्र ने काट ली हाथ की नस
सरस्वती विद्या मंदिर के छात्र ने काट ली हाथ की नस.

बोकारो : बोकारो के स्कूली छात्र-छात्राओं में विभिन्न कारणों से अवसाद में आकर तरह-तरह की घटनाओं को अंजाम देने का सिलसिला लगातार जारी है. इसी कड़ी में सेक्टर-3 सी स्थित सरस्वती विद्या मंदिर के एक छात्र ने अपने ही हाथ की नस काट ली. इस घटना के बाद पूरे स्कूल में हड़कंप मच गया.

12वीं कक्षा के एक छात्र ने स्कूल में ही अपने बाएं हाथ की नस काट ली. छात्र का प्राथमिक इलाज स्कूल में किया गया. घटना की जानकारी स्कूल के प्रधानाध्यापक मृत्युंजय सहाय ने सिटी थाना और सिटी डीएसपी को दी. घटना की सूचना मिलने पर सिटी थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और छात्र को अपने साथ सदर अस्पताल लाकर इलाज कराया. चिकित्सको की मानें तो छात्र की हालत खतरे से बाहर है.

बताया जाता है कि स्कूल की एक छात्रा ने आवेदन देकर उस छात्र पर परेशान करने का आरोप लगाया था. शनिवार को इस मामले में विद्यालय के प्राचार्य मृत्यंजंय सहाय ने छात्र शिवम को अपने कार्यालय बुलाकर फटकार लगायी. इतना ही नहीं, अन्य शिक्षकों ने भी छात्र द्वारा पर आए दिन स्कूल की छात्राओं और शिक्षिकाओं के साथ बदसलूकी का आरोप लगाया.

फटकार के बाद छात्र प्रधानाध्यापक के कक्ष से निकलकर सीधे स्कूल के मैदान में आ गया और वहीं अपने बाएं हाथ की कलाई की नस ब्लेड से काट ली. छात्र के गिरते खून को देखकर स्कूल प्रशासन भी सकते में आ गया. स्कूल प्रबंधन का कहना है कि छात्र के माता-पिता पलामू में रहते हैं और यहां वह अपनी दादी के साथ रहता है. स्कूल प्रबंधन ने यह भी बताया कि छात्र की मनोस्थिति ठीक नहीं रहती है. उसे काउंसलिंग की जरुरत है.

लड़के के पिता पलामू में पारा शिक्षक हैं. उन्हें भी इस घटना की जानकारी दी गई. वहीं, छात्र का कहना है कि लड़की का मामला नहीं है, लेकिन कुछ दिन पहले एक छात्रा का छाता छीन लेने की बात उसने जरूर स्वीकार की. सिटी थाना पुलिस का कहना है कि अभी छात्र का इलाज करवाकर उसे थाना ले जाया जाएगा, जहां उसके रिश्तेदार को बुलाकर सौंप दिया जाएगा.