BJP आलाकमान से नाराज ब्रम्हर्षि समाज, कहा- भागीदारी नहीं मिली तो सरकार से उखाड़ फेंकेगे

उन्होंने कहा कि कैलाशपति मिश्रा ने खून पसीने बहाकर पार्टी को खड़ा किया गया है. इसलिए बीजेपी को चाहिए कि केंद्रीय कार्यसमिति और स्टेट लेवल की कमेटी में ब्रह्मर्षि समाज को स्थान दे. ब्रह्मर्षि समाज लगातार अपमानित हो रहा है. 

BJP आलाकमान से नाराज ब्रम्हर्षि समाज, कहा- भागीदारी नहीं मिली तो सरकार से उखाड़ फेंकेगे
BJP आलाकमान से नाराज ब्रम्हर्षि समाज, कहा- भागीदारी नहीं मिली तो सरकार से उखाड़ फेंकेगे.

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Vidhansabha election) से पहले बीजेपी से एक खास वर्ग ब्रम्हर्षि समाज खासे नाराज है. नाराजगी इतनी है कि वे बीजेपी को दो टूक कहा कि हमारी भागीदारी सुनिश्चित नहीं हुई तो सरकार से उखाड़ फेंकेगे. दरअसल, बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यसमिति में इन समाज को उपेक्षा करने के कारण यह नाराजगी सामने आई है. बीजेपी और आरएसएस के नेताओं में खासे नाराजगी है. 

गौरतलब है कि हाल ही में बीजेपी द्वारा राष्ट्रीय टीम की जो घोषणा हुई उसमें भी खास वर्ग का कोई प्रतिनिधित्व नहीं है. लिहाजा इस वर्ग के महाचंद्र सिंह समेत कई बड़े नेता बीजेपी से नाराज होकर बैठक की है.

इस बैठक में बीजेपी नेता महाचंद्र सिंह ने नेतृत्व सम्भाला है. बैठक में यह दो टूक कहा कि ब्रह्मर्षि समाज के नाराजगी के बाद बिहार से लालू यादव की सत्ता हाथ से चली गई. लालू यादव की सरकार को इस समाज में उखाड़ फेंका था और यदि आज हमें उपेक्षा की गई तो इस सरकार के लिए भी नुकसानदायक होगा. 

उन्होंने कहा कि कैलाशपति मिश्रा ने खून पसीने बहाकर पार्टी को खड़ा किया गया है. इसलिए बीजेपी को चाहिए कि केंद्रीय कार्यसमिति और स्टेट लेवल की कमेटी में ब्रह्मर्षि समाज को स्थान दे. ब्रह्मर्षि समाज लगातार अपमानित हो रहा है. 

रामचंद्र सिंह ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव के ऐसे 56 सीट है जहां पर ब्रह्मर्षि समाज जीत सुनिश्चित करती हैं. कई ऐसे सीट हैं जहां दाएं बाएं भी कर सकते हैं. कैलाशपति मिश्र में इस पार्टी को खून पसीने से सींचा है और आज पार्टी को उपेक्षा हो रही है. हमारी भावना को इस नेतृत्व स्थान और सम्मान दें.

वहीं, पार्टी के युवा नेता पंकज कुमार ने कहा कि यदि बिहार विधानसभा चुनाव में ब्रह्मर्षि समाज को टिकट नहीं मिला तो ब्रह्मर्षि समाज बीजेपी से हाथ खींच लेगा. आज हम लोग ब्रम्हर्षि हुंकार सम्मेलन बुलाया है. सम्मेलन का मतलब है कि यदि हमें सम्मान नहीं मिला तो सरकार के खिलाफ वोटिंग करेंगे. आज कहीं भी ब्रह्मर्षि समाज को सम्मान नहीं मिल रहा है. 

उन्होंने कहा कि एक छोटे से छोटे पद से भी इन समाज के लोगों को हटाया जा रहा है. बीजेपी लोगों को अपमानित कर रही हैं. महाचंद्र बाबू को 2019 चुनाव में पार्टी में सम्मिलित किया जाता है और उन्हें आज तक कोई पद नहीं दिया. यही नहीं केंद्रीय कमिटी में शामिल हमारे समाज के लोगों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया.

नाराज नेताओं ने अहम बैठक बुलाई. बैठक में आरएसएस नेता अभिजीत कश्यप, बीजेपी युवा नेता पंकज कुमार, डॉक्टर मीनू सिंह, मधेश्वर शर्मा, डॉ. उदय शंकर, सुधीर शर्मा शामिल हुए.