बिहार का बैंक UP से हो रहा है ऑपरेट, 90 फीसदी खाताधारकों की बढ़ी मुश्किलें
X

बिहार का बैंक UP से हो रहा है ऑपरेट, 90 फीसदी खाताधारकों की बढ़ी मुश्किलें

ऐसा ही कुछ बैंक ऑफ इंडिया की भैसहवां मलाही शाखा में हुआ जब इसे बाढ़ के दिनों में यह कहकर यूपी में शिफ्ट किया गया. दो महीने बाद फिर से इसकी शाखा मलाही यानि बिहार वापस स्थापित कर दी जायेगी.

बिहार का बैंक UP से हो रहा है ऑपरेट, 90 फीसदी खाताधारकों की बढ़ी मुश्किलें

बगहा: बिहार के पश्चिम चंपारण में यूपी-बिहार सीमा पर स्थित गंडक दियारा के मलाही भैसहवां की शाखा बैंक ऑफ इंडिया (Bank of India) का एक नया कारनामा सामने आया है. बैंक ऑफ इंडिया की शाखा बिहार (Bihar) में की है लेकिन यह संचालित किया जा रहा है यूपी के कुशीनगर जिला से.

दरअसल, बिहार-यूपी सीमा पर स्थित पश्चिम चंपारण जिला में गंडक दियारा का ठकराहा प्रखंड बाढ़ और कटाव की विभीषिका से प्रभावित इलाकों में शामिल है. यहीं वजह है कि जब यहां बरसात के दिनों में बाढ़ और कटाव का ख़तरा मडराने लगता था तो करीब डेढ़ दशक पूर्व यहां से बैंक और थाना कुछ दिनों के लिए सीमावर्ती यूपी में शिफ्ट कर दिया जाता है.  

ऐसा ही कुछ बैंक ऑफ इंडिया की भैसहवां मलाही शाखा में हुआ जब इसे बाढ़ के दिनों में यह कहकर यूपी में शिफ्ट किया गया. दो महीने बाद फिर से इसकी शाखा मलाही यानि बिहार वापस स्थापित कर दी जायेगी.

बैंक के काम के लिए जाना पड़ता है बिहार से उत्तर प्रदेश
करीब डेढ़ दशक बाद आज भी यह बैंक बिहार का होने के बावजूद यूपी से संचालित किया जा रहा है. लिहाजा बैंक ऑफ इंडिया की शाखा, एटीएम (ATM) और सीएसपी में गंडक दियारा के सुदूरवर्ती इलाकों से हर रोज दर्जनों लोग तकरीबन 10 से 15 किलोमीटर दूर की यात्रा करके बमुश्किल नगदी निकासी और जमा करने के लिए यूपी के कुशीनगर तक जाने के लिए मजबूर हैं. 

जानकारी के मुताबिक बैंक ऑफ इंडिया की शाखा मलाही ठकरहा में करीब 90 प्रतिशत खाताधारी बिहार के हैं. इस इलाके में दूसरा कोई बैंक भी नहीं है जिससे लोगों को सरकारी योजनाओं के क्रियानवयन समेत जमा निकासी करने बिहार से उत्तरप्रदेश जाने की लाचारी है. वही खाताधारियों का कहना है कि अब इनके साथ इस बैंक की शाखा में भेदभाव भी किया जाता है और इन्हें अपनी बारी के इंतजार में घंटो लाइन में खड़े होकर इन्हें खाता संबंधी लाभ मिलना मुश्किल होता है.

नहीं हो रही कोई सुनवाई
वही इस मामले में जिला पार्षद जुनैद खान ने भी जिला मुख्यालय में आवाज उठाई, लेकिन इस शाखा को फिर से बिहार के मलाही भैसहवां में स्थापित कर संचालित करने की मांग पर कोई सुनवाई नहीं हुई.

इस मामले में शाखा प्रबंधक जगदीश प्रसाद भी बताते हैं कि "बैंक ऑफ इंडिया की यह शाखा मूल रुप से भैसहवां मलाही बिहार की है. इसे यूपी में संचालित किया जा रहा है. 

साथ ही हाल फ़िलहाल ऐसी कोई संभावना इसे फिर से बिहार में स्थापित करने की नहीं है क्योंकि यहां अब ज्यादातर खाताधारी यूपी के हो गए हैं, लेकिन सुदूरवर्ती दियारा के इलाकों से बैंक पहुंचे बिहार के खाताधारियों को आज भी बैंकिंग सुविधाओं के अभाव में कई किलोमीटर की दूरी तय कर आना पड़ता है. इस वजह से शारीरिक और आर्थिक रूप में मुश्किलो का सामना करना पड़ता है.
एडिटेड- Akanksha Mishra, News Desk

Trending news