बिहार: अब होटल में नहीं होगा सरकारी कार्यक्रम, सभी विभागों को दिया गया निर्देश

 भवन निर्माण विभाग के प्रधान सचिव ने इस बात को माना है और होटलो में सरकारी आयोजनो से तंग आकर भवन निर्माण विभाग ने बड़ा फैला लिया है.

बिहार: अब होटल में नहीं होगा सरकारी कार्यक्रम, सभी विभागों को दिया गया निर्देश
होटलों में सरकारी आयोजनो से तंग आकर भवन निर्माण विभाग ने बड़ा फैला लिया है.

पटना: बिहार सरकार के कई विभागों के सरकारी भवन के सभागारों के बजाय सरकारी आयोजन होटलों में हो रही है. यह भवन निर्माण विभाग खुद मान रही है. भवन निर्माण विभाग के प्रधान सचिव ने इस बात को माना है और होटलो में सरकारी आयोजनो से तंग आकर भवन निर्माण विभाग ने बड़ा फैला लिया है.

भवन निर्माण विभाग ने अहम निर्देश जारी किया है. भवन निर्माण विभाग के प्रधान सचिव चंचल कुमार ने सभी विभाग को होटलों से परहेज करने का निर्देश दिया है. भवन निर्माण ने सभी विभागों को लिखे आर्डर में कहा गया है कि सरकारी कार्यक्रम जैसे प्रेस कांफ्रेंस, मीटिंग, सेमिनार और योजनाओ के शुभारंभ समारोह आदि का आयोजन होटल सभागार में हो रहा है यह गंभीर बातें है.

आईएएस अधिकारी चंचल कुमार सीएम के भी प्रधान सचिव भी हैं. अब ऐसे आयोजनो से बचने के लिए सरकार का बड़ा निर्देश मिला है. एक तरीके से सरकार ने सरकारी आयोजनों को होटल में आयोजित करने से परहेज का निर्देश दिया है. जारी आदेश मे कहा गया है कि किस तरीके से सरकार के सभागार बने पड़े हैं. विभाग से जारी चिट्ठी में पूरी सरकारी भवनों की पूरी लिस्ट है.

14 नवंबर को जारी चिट्टी में कहा गया है कि सम्राट अशोक कन्वेंशन केंद्र, अधिवेशन भवन, मजरुल हक स्टेडियम, पटेल भवन सभागार, भारतीय नृत्यकला मंदिर, प्रेमचन्द रंगशाला, अरण्य भवन सभागार जैस अच्छे भवन पड़े है. इसलिए इन भवन का प्रयोग करें.

भवन निर्माण से जारी चिट्टी पर विभागीय मंत्री अशोक चौधरी ने कहा है कि सरकार ने अच्छी-अच्छी बड़ी इमारत और सभागार बनाए हैं. कई सभागार तो होटलो से भी सुंदर हैं. तो फिर सरकारी कार्यक्रम का आयोजन क्यों नहीं इसी में कराया जाए. सरकारी आयोजन कराने से कई फायदे होंगे.