पटना में व्यवसायी की हत्या, मीडिया ने DGP को दी जानकारी तब थानेदार को पता चला मामला

अपराधियों ने घटना को दिनदहाड़े अंजाम दिया. अपराधी इतने बेखौफ थे कि उन्होंने अपना भी नहीं ढक रखा था. इलाके की जक्कनपुर पुलिस को घटना की भनक तक नहीं लगी.

पटना में व्यवसायी की हत्या, मीडिया ने DGP को दी जानकारी तब थानेदार को पता चला मामला
अपराधी इतने बेखौफ थे कि उन्होंने अपना मुंह भी नहीं ढक रखा था.

पटना: सोमवार को बिहार के जानमाने व्यवसायी हरिहर प्रसाद की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. अपराधियों ने घटना को दिनदहाड़े अंजाम दिया. अपराधी इतने बेखौफ थे कि उन्होंने अपना भी नहीं ढक रखा था. इलाके की जक्कनपुर पुलिस को घटना की भनक तक नहीं लगी. जी मीडिया ने जब डीजीपी को इस बात की जानकारी दी तब जाकर स्थानीय पुलिस एक्टिव हुई. लेकिन तबतक अपराधी घटना को अंजाम देकर फरार हो चुके थे.
 
बिहार में अपराधियों के हौसले बुलंद हो रहे हैं. सोमवार को राजधानी पटना भी अपराधियों के बुलंद हौसले का गवाह बना. बिहार के जाने माने मास्किटो नेट व्यवसायी हरिहर प्रसाद की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. घटना उस वक्त घटी जब व्यवसायी जक्कनपुर थाना क्षेत्र के दो पुलवा स्थित अपने दुकान पर बैठे थे. व्यवसायी के साथ उनका सहयोगी कर्मचारी रणविजय भी उस वक्त दुकान में मौजूद था.

 घटना के प्रत्यक्षदर्शी रणविजय ने बताया कि सुबह का वक्त था. हरिहर प्रसाद दुकान के काउंटर पर बैठे थे. रणविजय गोदाम में था. उसी वक्त दो अपराधी दुकान के अंदर घुसे और पैसा दो पैसा दो कहते कहते दना दन तीन गोलियां हरिहर प्रसाद पर दाग दी. उसके बाद अपराधी कैस काउन्टर में रखे सारे पैसे लेकर भाग गये. 

प्रत्यक्षदर्शी रणविजय ने बताया कि अराधियों ने अपना चेहरा तक नहीं ढक रखा था. अगर अपराधी उनके सामने आते हैं तो वो उन्हें तुरंत पहचान सकता है. हलांकि पूरा वाकय दुकान में लगे सीसीटीवी में भी कैद हो चुका है. जिसका डीवीआर पुलिस अपने साथ ले गयी है. 

चूंकि हरिहर प्रसाद अपना व्यवसाय अपने घर से ही चलाते थे इसलिए घटना के बाद परिवार के सदस्य उन्हें तुरंत पीएमसीएच ले गये . लेकिन डाक्टरों ने व्यवसायी को मृत घोषित कर दिया.  
 
इधर हरिहर प्रसाद के व्यवसाय में सहयोग करनेवाले छोटो बेटे कृष्णा ने कुछ अलग ही बात कही है. कृष्णा का दावा है कि घटना से पहले रंगदारी जैसी कोई बात नहीं थी. न ही पिता ने किसी से अदावत की बात कही थी. परिवार का भी किसी से झगडा नहीं चल रहा था. कृष्णा का बडा भाई व्यवसाय कि सिलसिले में हरियाणा गया हुआ था. इसलिए वो घर पर अकेला था. घटना क्यों घटी उसे समझ में नहीं आ रहा.
 
घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने घर में लगे सीसीटीवी और आसपास के सीसीटीवी को खंगाला है. घटनास्थल पर पहुंचे सिटी एसपी जितेन्द्र कुमार ने कहा कि घटना को लेकर पुलिस को काफी अहम सूबत हाथ लगे हैं. अपराधी जल्द पकड में आ जाएंगे. सीटी एसपी ने भी रंगदारी की बात से इंकार किया है.  

पूरे मामले का दिलचस्प पहलू ये है कि परिवार वाले किसी भी अदावत से इन्कार कर रहे हैं. लेकिन बडा सवाल ये है कि अगर अपराधी लूट की मनसा से आए थे तो पहले वो व्यवसायी को बंधक बनाते और फिर पैसे कि डिमांड करते. लेकिन बिना किसी बातचीत के सीधे गोली मार देने का वाकया बिना आदवत के संभव नहीं दिखता. हलांकि पुलिस मामले की छानबीन में जुट गयी है जल्द ही कुछ बडे राज खुलने की संभावना भी दिख रही है.

हरिहर प्रसाद के 2 बेटे और तीन बेटियां हैं. दोनों बेटे बिजनेस में पिता का हाथ बंटाते हैं. 15 सालों से हरिहर प्रसाद मॉस्किटो नेट और गर्म कपड़ों का व्यवसाय कर रहे थे. अपनी लगन और मेहनत के बदौलत ही उन्होंने अपने बिजने को देश के दूसरे राज्यो से लेकर नेपाल तक फैला लिया था . लेकिन जिसतरह दिनदहाडे बेखौफ अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया उससे इलाके में दहशत का माहौल है और दूसरे व्यवसायी भी घटना से सहम गये हैं. जिनके भय को दूर करना पुलिस के लिए चुनौती बन गयी है.