बेगूसराय: सड़क पर उतरे व्यवसाई, प्रशासन के खिलाफ निकाला आक्रोश मार्च

 एक व्यवसाई ने कहा कि शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में व्यवसायियों को अपराधियों के द्वारा निशाना बनाया जा रहा हैं. लेकिन पुलिस कोई ठोस कार्रवाई किसी मामले में नहीं कर रही है.

बेगूसराय: सड़क पर उतरे व्यवसाई, प्रशासन के खिलाफ निकाला आक्रोश मार्च
व्यवसायियों ने प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया,

बेगूसराय: बिहार के बेगूसराय में बढ़ते अपराध के खिलाफ रविवार को सैकड़ों व्यवसाई सड़क पर उतरे और आक्रोश मार्च निकाल जिला प्रशासन की अर्थी जलाया. दरअसल पिछले 6 माह में बेगूसराय में व्यवसायियों को अपराधी लगातार निशाना बना रहे हैं. इसके साथ ही 12 नवंबर की सुबह अपराधियों ने स्वर्ण कारोबारी से सवा 9 किलो सोना लूट लिया था.

इस घटना में चालक की गोली मारकर हत्या कर दी और दो कारोबारियों को गोली मारकर घायल कर दिया. वहीं, इस मामले में पुलिस के हाथ अब तक खाली हैं. साथ ही पिछले 6 माह में लगातार अपराधी व्यवसायियों से रंगदारी की मांग करते हुए हत्या और चोरी की घटना को अंजाम दे रहे हैं. इससे नाराज व्यवसाई रविवार को प्रशासन के खिलाफ सड़क पर उतरे.

इस दौरान शहर के जी डी कॉलेज से सैकड़ों व्यवसाई महासंघ के बैनर तले आक्रोश मार्च निकाला और ट्रैफिक चौक पर पहुंचकर जिला प्रशासन का पुतला दहन किया. वहीं, प्रदर्शन के दौरान पुतला जलाने के वक्त एक जलता हुआ पुतला व्यवसायियों के शरीर पर भी गिर गया. जिससे अफरा-तफरी का माहौल हो गया. हालांकि इस घटना में कोई घायल नहीं हुआ.

वहीं, एक व्यवसाई ने कहा कि शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में व्यवसायियों को अपराधियों के द्वारा निशाना बनाया जा रहा हैं. लेकिन पुलिस कोई ठोस कार्रवाई किसी मामले में नहीं कर रही है. पिछले माह बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे जी बेगूसराय पहुंच व्यवसायियों के साथ बैठक की थी. लेकिन नतीजा आज तक कुछ नहीं निकला. इसी से नाराज हो आज व्यवसाई सड़क पर उतर जिला प्रशासन का पुतला दहन किया. साथ ही अपने सुरक्षा की मांग की. 

गंगा डेयरी के एमडी अखिलेश कुमार ने कहा कि पिछले 5 दिनों पहले जो स्वर्ण व्यवसाई पर जानलेवा हमला हुआ. साथ ही बड़ी मात्रा में दिनदहाड़े सोने की लूट हो गई. हम लोग पुलिस से गुहार करते रहे कि इसका जल्द निपटारा हो. लेकिन प्रशासन से सिर्फ आश्वासन मिलता है कोई नतीजा नहीं निकला है.

उन्होंने कहा कि पिछले 6 महीने का रिकार्ड देखा जाए तो प्रतिदिन कहीं चोरी या हत्या होती है पर एक भी मामले का निपटारा नहीं हो रहा है. हम लोग व्यवसाई शांत स्वभाव के होते हैं, लेकिन हमारे बर्दाश्त सीमा से परे हो गई है. हम लोग अब बर्दाश्त नहीं करेंगे. हम तब तक लड़ने के लिए तैयार हैं जब तक हम लोगों की मांगे नहीं मानी जाएगी. हम लोग सब मिलकर लड़ेंगे और भी आंदोलन उग्र होगा.

वहीं, एक अन्य व्यवसाई ने कहा कि हमारा एक ही उद्देश्य है कि व्यवसायियों की सुरक्षा. हम व्यवसाई सुरक्षित माहौल चाहते हैं. इसके अलावा जिला प्रशासन से कोई मांग नहीं है. बार-बार जिला प्रशासन से अनुरोध किया गया कि वह हमें व्यवसाय करने के लिए सुरक्षित माहौल दिया जाए. लेकिन इसमें जिला प्रशासन पूरी तरह विफल रहा है.