बिहार कैबिनेट का बड़ा फैसला, 33 हजार शिक्षकों की होगी बहाली, 10 एजेंडों पर लगी मुहर

कैबिनेट बैठक में फसल बर्बादी पर चर्चा की गई. मार्च में ओलावृष्टि और बेमौसम बरसात में फसलों की क्षति को लेकर कृषि इनपुट सब्सिडी की घोषणा की गई.

बिहार कैबिनेट का बड़ा फैसला, 33 हजार शिक्षकों की होगी बहाली, 10 एजेंडों पर लगी मुहर
बिहार कैबिनेट की अहम बैठक, कुल 10 एजेंडों पर लगी मुहर.

पटना: बिहार में कैबिनेट ने शिक्षकों की बहाली से जुड़ा बड़ा फैसला लिया है. बिहार कैबिनेट ने फैसला लिया है कि राज्य में कुल 33 हजार 916 शिक्षकों की बहाली की जाएगी. जिसमें उच्च माध्यमिक विधायलय में 32 हजार 916 माध्यमिक शिक्षक के पद स्वीकृत किए गए हैं. वहीं कुल 1 हजार पदों पर कंप्यूटर शिक्षकों की बहाली की जाएगी.

किसानों को राहत
बिहार की राजधानी पटना में आज अहम कैबिनेट बैठक हुई जिसमें कुल 10 एजेंडों पर मुहर लगी. इसमें किसानों को बड़ी राहत देते हुए फसलों के नुकसान के लिए कुल 518 करोड़ रुपए निर्गत किए गए हैं. साथ ही कृषि इनपुट सब्सिडी के लिए राशि भी निर्गत की गई है.

फसल बर्बादी पर हुई चर्चा
कैबिनेट बैठक में फसल बर्बादी पर चर्चा की गई. मार्च में ओलावृष्टि और बेमौसम बरसात में फसलों की क्षति को लेकर कृषि इनपुट सब्सिडी की घोषणा की गई है. किसानों को राहत देने के लिए पहले भी कैबिनेट मीटिंग में फसल बर्बादी पर चर्चा की गई थी.

संविदाकर्मियों को दो माह का वेतन
कोरोणा संक्रमण में ठेके पर काम कर रहें कर्मियों को भी बड़ी राहत मिलने वाली है. मार्च और अप्रैल महीने में सभी संंविदा कर्मियों वेतन मिलेगा. बैठक के बाद जानकारी मिली कि संविदाकर्मियों को दोनों महीने का वेतन मिलेगा. दिलचस्प बात यह है कि उपस्थिति पंजी के बगैर इस बार वेतन बनने वाला है. क्योंकि लॉकडाउन की वजह से कार्यालय बंद करने पड़े.

कैबिनेट बैठक में वेतन निर्गत करने के एजेंडे पर मुहर लगाई गई. लॉकडाउन के बाद बिहार कैबिनेट की अहम बैठक हुई है जिसमें कुछ जरुरी कामों पर चर्चा की गई.