बक्सर: SDM के साथ तकरार के बाद अश्विनी चौबे पर मामला दर्ज, आचार संहिता उल्लंघन का भी आरोप

अश्विनी चौबे पर सरकारी काम में बाधा डालने और गाली-गलौज करने का आरोप लगाया है. साथ ही उनपर आचार संहिता के उल्लंघन का भी आरोप लगा है. 

बक्सर: SDM के साथ तकरार के बाद अश्विनी चौबे पर मामला दर्ज, आचार संहिता उल्लंघन का भी आरोप
अश्विनी चौबे के साथ बीजेपी जिलाध्यक्ष पर भी मामला दर्ज किया गया. (फाइल फोटो)

बक्सर: बिहार के बक्सर से सासंद अश्विनी चौबे और एसडीएम के बीच हुई तकरार पर अश्विनी चौबे पर मामला दर्ज किया गया है. अश्विनी चौबे के साथ बीजेपी जिलाध्यक्ष पर भी मामला दर्ज किया गया. 

अश्विनी चौबे पर सरकारी काम में बाधा डालने और गाली-गलौज करने का आरोप लगाया है. साथ ही उनपर आचार संहिता के उल्लंघन का भी आरोप लगा है. अश्विनी चौबे पर कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. इसके अलावा डेढ़ सौ अज्ञात लोगों पर भी मामला दर्ज किया गया है. 

बक्सर सीईओ ने नगर थाना में मामला दर्ज कराया. आपको बता दें कि केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ. वीडियो में मंत्री जी एसडीएम पर रौब झाड़ते हुए दिख रहे थे. चुनाव आचार संहिता को देखते हुए बक्सर के एसडीएम केके उपाध्याय अश्विनी चौबे के काफिले को रोकते हैं. लेकिन मंत्री जी लापरवाही भरे लहजे में एसडीएम को चेताते हुए कहते हैं, 'आप हमें हथकड़ी लगाओगी'  

अश्विनी चौबे एसडीएम से कहते हैं, 'खबरदार जो हमें रोका तो, कौन बंद करेगा हमें, हमें हथकड़ी डालोगे लो डालो.....खबरदार.' इसके बाद एसडीएम मंत्री जी को बताते हैं कि जो आदेश आया है हम उसका पालन कर रहे हैं. इसके बाद मंत्री कहते है कि किसका आदेश है...? एसडीएम जब उन्हें बताते हैं कि चुनाव आयोग का आदेश है. तब मंत्री जी तमतमा उठते है और गाड़ी से बाहर निकल कर चिल्लाते....'चलो जेल भेजो...' एसडीएम कहते हैं कि आपको जब्त करने का नहीं गाड़ियों को जब्त करने का आदेश है. मंत्री जी यह कहते हुए...'मेरी गाड़ी है आप जब्त नहीं कर सकते' फिर से बैठ जाते है. 

 

अश्विनी चौबे ने इस मामले पर सफाई देते हुए कहा है कि कुछ भी नहीं हुआ है. मैं कभी उग्र नहीं होता बल्कि कुछ लोगों ने उसे उग्रता का मुहर लगाकर प्रचारित प्रसारित किया है. उन्होंने कहा कि मेरी आवाज ही इतनी बुलंद है कि बिना माइक के भी बोलता हूं तो यहां से वहां तक सुनाई देती है. इस लोकतंत्र में मेरी आवाज को रोका नहीं जा सकता.