चक्रधरपुर: कीर्तिमान स्थापित करेगा ये रेल मंडल, 125 मिलियन टन माल ढुलाई का बनाएगा रिकॉर्ड

डीआरएम ने कहा कि थर्ड लाइन प्रोजेक्ट के कार्य, इंटरलोकिंग वर्क और इस्पात उद्योग में आई मंदी के बावजूद चक्रधरपुर रेल मंडल सभी मंडलों को पछाड़ कर बेहतर माल ढुलाई का रिकोर्ड बना रही है.

चक्रधरपुर: कीर्तिमान स्थापित करेगा ये रेल मंडल, 125 मिलियन टन माल ढुलाई का बनाएगा रिकॉर्ड
चक्रधरपुर रेल मंडल के डीआरएम हैं छत्रसाल सिंह

चक्रधरपुर: चक्रधरपुर के डीआरएम छत्रसाल सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा है कि इस वित्तीय वर्ष में चक्रधरपुर रेल मंडल ऐतिहासिक कीर्तिमान स्थापित करेगा. झारखंड के चक्रधरपुर रेल मंडल इस वित्तीय वर्ष अपने लक्ष्य से भी आगे निकलकर 125 मिलियन टन माल लदान का रिकॉर्ड बनाएगा. डीआरएम ने कहा कि चक्रधरपुर रेल मंडल में प्रत्येक दिन 4657 वैगन माल ढुलाई का लक्ष्य है, जबकि लक्ष्य को पार करते हुए पत्येक दिन रेल मंडल के द्वारा छह हजार से अधिक वैगनों में माल ढुलाई हो रही है. 

उन्होंने कहा कि अब तक 79 मिलियन टन माल ढुलाई हो चुकी है. जिससे सरकारी राजस्व में तेजी से इजाफा हो रहा है. डीआरएम ने कहा कि थर्ड लाइन प्रोजेक्ट के कार्य, इंटरलोकिंग वर्क और इस्पात उद्योग में आई मंदी के बावजूद चक्रधरपुर रेल मंडल सभी मंडलों को पछाड़ कर बेहतर माल ढुलाई का रिकॉर्ड बना रही है. उन्होंने कहा की चक्रधरपुर रेल मंडल के तमाम कर्मचारी, अधिकारी और रेल सेवा उपभोक्ताओं के कारण चक्रधरपुर रेल मंडल प्रगति के मार्ग पर है.

डीआरएम ने बताया की चक्रधरपुर रेल मंडल में लगभग थर्ड लाइन निर्माण का कार्य पूरा हो चूका है. कुछ जगहों पर निर्माण कार्य चल रहे हैं. थर्ड लाइन कार्य पूर्ण होते ही एक दो सालों में यात्री ट्रेनों की रफ्तार भी बढ़ 130 किलोमीटर तक बढ़ जाएगी. चक्रधरपुर से हावड़ा तक यात्रा करने में फिलहाल जो वक्त लगता है, उसकी तुलना में 30 मिनट तक का समय बचेगा. इसी तरह मुंबई तक के सफर में भी तेज रफ़्तार के कारण यात्री कम समय में अपने गंतव्य मार्ग तक पहुंचेंगे. नई ट्रेनों की भी सौगात रेल यात्रियों को मिलने की संभावना है.

आपको बता दें की चक्रधरपुर के डीआरएम छत्रसाल सिंह का तबादला हो गया है. डीआरएम छत्रसाल सिंह की जगह पर विजय कुमार साहू सोमवार को चक्रधरपुर के डीआरएम का पदभार ग्रहण करेंगे. डीआरएम ने कहा की चक्रधरपुर एक छोटा सा शहर है, लेकिन इस शहर ने रेलवे के मानचित्र में अपनी एक महत्वपूर्ण जगह बना ली है.