close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सीएम नीतीश कुमार ने RSS नेताओं से की मुलाकात, निकाले जा रहे कई मायने

हाल में बीजेपी और जेडीयू के नेताओं की ओर से जिस तरह की बयानबाजी हो रही है वह एनडीए के लिए ठीक नहीं है और इस मुलाकात को इससे जोड़कर देखा जा रहा है. 

सीएम नीतीश कुमार ने RSS नेताओं से की मुलाकात, निकाले जा रहे कई मायने
इस बारे में पूछे जाने पर आरएसएस की ओर से कहा गया कि ये शिष्टाचार मुलाकात है. (फाइल फोटो)

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आरएसएस के नेताओं की मुलाकात को लेकर राजनैतिक गलियारों में चर्चा का बाजार गर्म है. आरएसएस के अखिल भारतीय सह संपर्क प्रमुख रामलाल और रमेश पप्पा ने सोमवार दोपहर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके सरकारी आवास एक अणे मार्ग पर मुलाकात की.

हालांकि इस बारे में पूछे जाने पर आरएसएस की ओर से कहा गया कि ये शिष्टाचार मुलाकात है. सह संपर्क प्रमुख रामलाल और रमेश पप्पा कल ही पटना आए थे संगठन का काम लगातार चलता रहता है और आज यहां से जाने के क्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से शिष्टाचार मुलाकात की, लेकिन बंद कमरे में हुई इस मुलाकात को लेकर कई कयास लगाए जा रहे हैं.

हाल में बीजेपी और जेडीयू के नेताओं की ओर से जिस तरह की बयानबाजी हो रही है वह एनडीए के लिए ठीक नहीं है और इस मुलाकात को इससे जोड़कर देखा जा रहा है. हाल में बीजेपी की ओर से एमएलसी संजय पासवान,सांसद गिरिराज सिंह,राज्यसभा सांसद सीपी ठाकुर और एमएलसी सचिदानंद राय ने जिस तरह से बयान देना शुरू किया इसको लेकर बीजेपी-जेडीयू में खटपट की बात सामने आने लगी है.

 

हालांकि साथ-साथ दोनों ओर से बीच के बयान भी आते रहे और इस तरह के बयान को निजी बयान बताकर मामले को दरकिनार करने की कोशिश होती रही लेकिन इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाउडी मोदी कार्यक्रम को लेकर जेडीयू के रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने जिस तरह से ट्वीट किया इसको लेकर बीजेपी के प्रवक्ता मुखर हो गए और जेडीयू के प्रवक्ताओं ने भी बीजेपी को आईना दिखाना शुरू किया.

इसको लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और आरएसएस के नेताओं के बिच मुलाकात को जोड़कर देखा जा रहा है. बिहार में पांच विधानसभा सीट और एक लोकसभा सीट पर उपचुनाव होना है हालांकि सीट को लेकर जेडीयू और बीजेपी में  पेंच नहीं है लेकिन बयानबाजी को लेकर आमजन में सन्देश ठीक नहीं जा रहा है और इसको लेकर ये मुलाकात अहम् माना जा रहा है.